शनिवार, 29 जनवरी 2022 | 06:38 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम योगी ने प्रयागराज में अतीक से मुक्त भूमि पर किया शिलान्यास, बोले- दीवारों से निकल रहा गरीबों का पैसा          राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने पतंजलि विश्वविद्यालय,हरिद्वार के प्रथम दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडलिस्ट विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि          ओमीक्रॉन कोरोना वेरिएंट की भारत में हुई एंट्री          वर्ष 2025 तक उत्तराखण्ड बनेगा हर क्षेत्र में अग्रणी राज्यःसीएम पुष्कर सिंह धामी          सीएम पुष्कर धामी ने राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग,गायक जुबिन नौटियाल को किया सम्मान          1 दिसंबर से सउदी अरब जा सकेंगे भारतीय          उत्तराखंड में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि          T20 रैंकिंग में रोहित शर्मा को हुआ फायदा          15 दिसम्बर तक स्वरोजगार योजनाओं के तहत लोन के निर्धारित लक्ष्य को किए जाने के सीएम धामी ने दिए निर्देश          सीएम योगी आदित्यनाथ एवं सीएम पुष्कर धामी की लखनऊ में हुई बैठक में निपटा उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड का 21 वर्ष पुराना विवाद         
होम | क्राइम | बीएसएफ कमांडेंट ने बहन और बीबी के साथ मिलकर की 125 करोड़ की ठगी

बीएसएफ कमांडेंट ने बहन और बीबी के साथ मिलकर की 125 करोड़ की ठगी


दिल्ली से सटे गुरूग्राम से एक हैरान कर देने वाला मामला आया है। इस मामले में एक बीएसएफ कमांडेंट उसकी पत्नी और बहन को गिरफ्तार किया गया है। बीएसएफ कमांडेंट पर आरोप है कि, उसने 125 करोड़ की ठगी की है।राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड में खुद को आईपीएस अधिकारी बताकर 125 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला मास्टरमाइंड विदेश भागने की तैयारी में था। विदेश जाने के लिए आरोपी ने तैयारियां भी शुरू कर दी थीं, लेकिन उसके विदेश जाने से पहले ही अपराध शाखा मानेसर ने मास्टरमाइंड बीएसएफ के डिप्टी कमांडेंट प्रवीण यादव, पत्नी ममता यादव और बहन रितुराज यादव को गिरफ्तार कर लिया। जांच में सामने आया है कि आरोपी ने ठगी की योजना पर साल 2021 सितंबर में काम करना शुरू कर दिया था। ऐसे में छह महीनों में उसने 125 करोड़ रुपये की ठगी कर डाली। करोड़ों रुपये मिलने के बाद आरोपी ने मौज-मस्ती शुरू कर दी। सबसे पहले लग्जरी कारें खरीदी और देश में कई जगहों पर घूमने भी गया। हालांकि ने आरोपी पुलिस पूछताछ में खुलासा किया कि उसको उम्मीद नहीं थी कि वह इतनी जल्दी पकड़ा जाएगा। किसी को शक न हो इसके लिए अपनी बहन रितुराज की मदद से फर्जी कागजात तैयार करके एनएसजी के नाम पर खाता खुलवाया। कंस्ट्रक्शन कंपनियों के मालिकों को जाल में फंसाकर एनएसजी वाले खाते में पैसा जमा कराता था। बाद में अपनी पत्नी के खाते में ट्रांसफर कर देता था। उसने एक फर्जी कंपनी भी बना रखी थी। उसमें वह, उसकी पत्नी ममता और बहन रितुराज डायरेक्टर थे। जिसके बाद इन सभी लोगों ने मिलकर इस घटना के बाद अंजाम दिया।

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: