सोमवार, 8 अगस्त 2022 | 06:46 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प. बंगाल: अर्पिता मुखर्जी के फ्लैट से 28.90 करोड़ रुपये और 5 किलो से ज्यादा सोना बरामद          उत्तराखंड में कोरोना के 334 नए मामले, 2 लोगों की मौत          1 से 4 अगस्त तक भारत दौरे पर रहेंगे मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम सोलिह          बंगाल शिक्षा घोटाला: पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से हटाया गया           संसद में स्मृति ईरानी और सोनिया गांधी के बीच नोकझोंक           गुजरात: जहरीली शराब कांड में एक्शन, SP का तबादला, 2 डिप्टी SP सस्पेंड           दिल्ली में फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 3 गिरफ्तार          पार्थ चटर्जी के घर में चोरी, लोग समझे ED का छापा पड़ा है          कर्नाटक में प्रवीण हत्याकांड में पुलिस ने अब तक 21 लोगों की हिरासत में लिया         
होम | पर्यटन | उत्तराखंड का ये खूबसूरत झरना, बद्रीनाथ जा रहे हैं तो यहां जाना ना भूलें

उत्तराखंड का ये खूबसूरत झरना, बद्रीनाथ जा रहे हैं तो यहां जाना ना भूलें


उत्तराखंड का नाम जब लोगों की ज़ुबान पर आता है तो दिमाग में सीधे-सीधे वहां की खुबसूरती का दृश्य बनता है। यहां के मंदिर, यहां के पहाड़, और खासकर यहां के झरने यानि यहां के वाटरफॉल्स। क्या आप जानते हैं कि उत्तराखंड में अभी भी काफी ऐसे वॉटरफॉल्स हैं जो दुनिया की निगाहों से ओझल हैं। ऐसा ही एक वॉटरफॉल बद्रीनाथ धाम के पास है। जिसका नाम है वसुंधरा वॉटरफॉल इसकी मान्यताएं काफी पुरानी हैं।

 

400 फीट की ऊंचाई से गिरते वसुंधरा झरने को जो कोई देखता है वो इसका मुरीद हो जाता है। वसुंधरा वॉरफॉल इतना खूबसूरत है कि सैलानी इसकी तरफ खींचे चले आते हैं। ये बद्रीनाथ धाम से केवल 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। और इस बार तो बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने के बाद अब तक यहां 8 हजार से ज़्यादा यात्री आ चुके हैं। सैलानियों को यहां आने के बाद एक असीम सी शांति मिलती है।

 

आपको बता दें कि इस झरने का ज़िक्र पुराणों में भी मिलता है। ऐसा कहा जाता है कि इस वॉटरफॉल के पानी के छिटे पड़ने से ही मनुष्य के सारे कष्ट दूर हो जाता है। वैसे तो इस वॉटरफॉल तक पहुंचने के लिए माणां गांव से घोड़ा-खच्चर और डंडी-कंडी की सुविधा उपलब्ध है। लेकिन अगर सैलानी चाहें तो यहां पैदल भी आ सकते हैं।  और आपको ये भी बता दें कि इसे लेकर एक मान्यता य़े भी है कि स्वर्गारोहण के दौरान इसी झरने में सहदेव ने अपने प्राण त्यागे थे, और अर्जुन ने अपना धनुष गांडित त्यागा था।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: