शनिवार, 25 सितंबर 2021 | 09:22 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | खेल | बजरंग पुनिया के सेमीफाइनल में हारने से टूट गया भारत का सपना

बजरंग पुनिया के सेमीफाइनल में हारने से टूट गया भारत का सपना


टोक्यो में हाल रहे ओलंपिक में आज भारतीय फैंस की उम्मीद टूट गई है। पहलवान  बजरंग पुनिया सेमी फाइनल में हार गए हैं। बजरंग पुनिया को टोक्यो ओलंपिक 2020 में पुरुष फ्रीस्टाइल 65 किग्रा वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में अजरबैजान के हाजी अलियेव के हाथों 5-12 से हार का सामना करना पड़ा। बजरंग ने इस मुकाबले की शुरुआत बेहतर तरीके से की और एक अंक हासिल किया, लेकिन हाजी ने तुरंत वापसी कर चार अंक बटोरे। बजरंग पहले पीरियड में 1-4 से पिछड़ गए। बजरंग भारत की टोक्यो ओलंपिक में सबसे बड़ी पदक उम्मीद में से एक थे लेकिन उनसे स्वर्ण पदक लाने का सपना टूट गया। उनके पास अभी भी कांस्य पदक लाने का अवसर है।इससे पहले क्वार्टर फाइनल मैच में बजरंग ने ईरान के मुतर्जा घियासी चेका को 2-1 से हराया  टोक्यो में भारत के लिए पदक के दावेदार बजरंग को विक्ट्री बाई फॉल के आधार पर जीत मिली।
केडी जाधव भारत को कुश्ती में पदक दिलाने वाले पहले पहलवान थे जिन्होंने 1952 के हेलसिंकी ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था। उसके बाद सुशील ने बीजिंग में कांस्य और लंदन में रजत पदक हासिल किया। सुशील ओलंपिक में दो व्यक्तिगत स्पर्धा के पदक जीतने वाले अकेले भारतीय थे लेकिन बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू ने कांस्य जीतकर बराबरी की। लंदन ओलंपिक में योगेश्वर दत्त ने भी कांस्य पदक जीता था। वहीं साक्षी मलिक ने रियो ओलंपिक 2016 में कांस्य पदक हासिल किया था। 2020 में रवि दहिया ने सिल्वर मेडल जीता। अब बजरंग पुनिया के हारने से भारत के गोल्ड पाने की उम्मीद खत्म हो गई है। इसके साथ ही भारतीय बजरंग पुनिया को उनकी मेहनत और समर्पण के लिए बधाई दे रहे हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: