बुधवार, 20 नवंबर 2019 | 11:57 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
स्वर कोकिला लता मंगेशकर की हालत नाजुक, देश भर दुआओं का दौर जारी           महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश, मोदी कैबिनेट ने दी मंजूरी          अयोध्या में ही मस्जिद निर्माण के लिए दी जाएगी जमीन          सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन पर रामलला का हक माना          कोर्ट ने कहा कि पुरातत्व विभाग की खोज को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता          कोर्ट ने कहा,विवादित जमीन के नीचे एक ढांचा था और यह इस्लामिक ढांचा नहीं था          कोर्ट के फैसले में ASI का हवाला देते हुए कहा गया कि बाबरी मस्जिद का निर्माण किसी खाली जगह पर नहीं किया गया था          अयोध्या पर आया सुप्रीम कोर्ट का फैसला, बनेगा राम मंदिर, मस्जिद के लिए अलग जगह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          केंद्र सरकार ने 48 लाख कर्मचारियों को दिवाली से पहले दिया बड़ा तोहफा, 5 फीसदी बढ़ाया महंगाई भत्ता           देश के सबसे बड़ा सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड पर सेविंग अकाउंट की तुलना में दे रहा है डबल ब्याज           पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          महाराष्ट्र, हरियाणा में 21 अक्टूबर को होगा विधानसभा चुनाव, 24 को आएंगे नतीजे          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | बद्रीनाथ लामबगड़ स्लाइड में खतरे को देखते हुए तीन सौ मीटर के डेंजर जॉन को यात्री पैदल रास्ते से करेंग

बद्रीनाथ लामबगड़ स्लाइड में खतरे को देखते हुए तीन सौ मीटर के डेंजर जॉन को यात्री पैदल रास्ते से करेंग


बद्रीनाथ यात्रा में तीन दशकों से सबसे बड़े खतरे की तरह खड़ा लामबगड़ स्लाइड हर वर्ष बद्रीनाथ यात्रियों को मानसून के समय परेशान करता है। इस बार भी हर मानसून की तरह लामबगड स्लाइड पर भूस्खलन हो रहा है जिसके कारण यहां यात्रियों को घंटों फसना पड़ रहा है सबसे बड़ी बात यह है की लामबगड़ स्लाइड खुला होने के बावजूद भी यहाँ लगातार बोल्डरों का गिरना जारी हैं जिसके कारण अब यात्रियों के लिए प्रसाशन द्वारा नयी गाइडलाइन शुरु की गयी है।

जिसके तहत स्लाइड जोन पर यात्री अपनी गाड़ियों से स्लाइड को पार नहीं करेंगे,बल्कि सिर्फ गाड़ी का ड्राइवर लामबगड़ स्लाइड को पार करेगा और यात्री पैदल ही अलकनंदा के किनारे- किनारे दूसरे पैदल मार्ग से लामबगड़ स्लाइड के दूसरी तरफ पहुंचेंगे, हालाँकि अलकनंदा के किनारे से पैदल यात्रियों को दूसरी तरफ भेजा जा रहा है। 

आपको बताते चले की प्रसाशन को क्यों नयी गाइड लाइन जारी करनी पड़ी आखिर क्यों यात्रियों की जान की हिफाजत के लिए नया नियम अनुसार लामबगड़ स्लाइड पर यात्रियों को गाडी या पैदल नहीं जाने दिया जा रहा है। इसके पीछे के कई कारण है,बीते 6 अगस्त को बद्रीनाथ मार्ग लामबगड़ स्लाइड में भूस्खलन के कारण बंद था जिसे सुबह 9 बजे करीब खोला गया और जब गाड़ियां इस स्लाइड को पार कर रही थी तब अचानक एक यात्री बस के ऊपर स्लाइड जोन में भारी बोल्डर आ गया था। जिसमे 6 लोगों की बस में दबे रहने से मौत और 8 लोग बुरी तरह जख्मी हो गए थे।

इस बारे में गोविंदघाट के थाना अध्यक्ष बृजमोहन सिंह राणा ने बताया कि लामबगड़ में पिछले कई दिनों से ऐसी घटनाएं हो रही थी। जिसके चलते प्रशासन को यह फैसला लेना पड़ा और अब यात्रियों को भी इस पर ध्ना देना होगा। ताकि की आए दिन होने वाली इस तरह की घटनों से बचा जा सके। इस क्षेत्र में लगाता बोल्डर गिरने का सिलसिला जारी है। बारिश हो या मौसम साफ़ कब कहाँ से बोल्डर गिर जाए कुछ पता नहीं जिस कारण अब बद्रीनाथ यात्रियों को स्लाइड जोन में गाड़ियों से उतारकर पैदल ही पार करना होगा।

आपको बता दें कि लामबगड़ में बदरीनाथ हाईवे रविवार को प्रात: नौ बजे वाहनों की आवाजाही के लिए सुचारु हो गया था। यातायात सुचारु होने पर लगभग 700 तीर्थयात्री बदरीनाथ धाम पहुंचे, जबकि बदरीनाथ धाम से 150 तीर्थयात्री गंतव्य के लिए रवाना हुए। शनिवार शाम पांच बजे भारी बारिश के दौरान बोल्डर आने से लामबगड़ में हाईवे बंद हो गया था और यात्री रोक दिए गए थे।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: