बृहस्पतिवार, 29 अक्टूबर 2020 | 06:38 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
मन की बात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देशवासियों से अपील,सैनिक के नाम जलाएं एक दीया          विजयदशमी के पावन पर्व पर बद्री-केदार,गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि का ऐलान          स्वास्थ्य मंत्रालय की देश वासियों से अपील,त्योहारों के मौसम में कोरोना को लेकर बरतें सावधानी          दिवाली से पहले केंद्रीय कर्मचारियों को मोदी सरकार का तोहफा,3737 करोड़ रुपये के बोनस का भुगतान तुरंत           भारत दौरे से पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री का बड़ा बयान लद्दाख में चीन भारत पर डाल रहा है सैन्‍य दबाव          उत्तराखंड में चिन्हित रेलवे क्रॉसिंगों पर 50 प्रतिशत धनराशि केन्द्रीय सड़क अवस्थापना निधि से की जाएगी          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | बदल गए डेबिट,क्रेडिट कार्ड से लेन-देन के नियम,कुछ ऐसे है नये नियम

बदल गए डेबिट,क्रेडिट कार्ड से लेन-देन के नियम,कुछ ऐसे है नये नियम


आज यानि 30 सितंबर से डेबिट,क्रेडिट कार्ड के लेन-देन के नियम बदल गए है। आप यदि आईसीआईसीआई  बैंक या एसबीआई या फिर किसी और बैंक के कस्टमर हैं,तो आपके पास मैसेज जरूर आया होगा, जिसमें कहा गया होगा कि 30 सितंबर से आपके कार्ड से इंटरनेशनल लेन-देन की सेवाएं बंद की जा रही हैं। तो आप घबराएं नहीं,ये आपकी सुरक्षा के लिए ही किया गया है। दरअसल, रिजर्व बैंक ने डेबिट और क्रेटिड कार्ड को लेकर बढ़ रहे फ्रॉड्स को रोकने के लिए सभी बैंकों को आदेश दिया था कि वो बेवजह ही ग्राहकों के कार्ड में इंटरनेशनल सुविधाएं न दें, जब तक कि ग्राहक खुद इसकी मांग न करे।

इसके अलावा भी कई और बदलाव आज यानि 30 सितंबर से आपके क्रेडिट और डेबिट कार्ड को लेकर हुए हैं, जिससे आपका अपने कार्ड पर बेहतर नियंत्रण होगा और धोखाधड़ी का खतरा भी घटेगा।  

शुरुआत में आप अपने डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल सिर्फ PoS (Point of Sale) से पेमेंट करने या ATM से पैसा निकालने में ही कर सकेंगे। ये बदलाव सभी मौजूदा कार्ड्स, नए कार्ड्स या हाल फिलहाल में रीन्यू कार्ड्स पर लागू होगा। 

नए जारी हुए कार्ड्स का इस्तेमाल PoS या ATMs में ही किया जा सकेगा। इसके अलावा अगर आप ऑनलाइन, कॉन्टैक्टलेस या फिर इंटरनेशनल लेन-देन के लिए कार्ड्स का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको ये सेवाएं मैनुअली शुरू करनी होंगी. इन सेवाओं को आप मोबाइल ऐप या नेटबैंकिंग के जरिए शुरू कर सकते हैं. इसके अलावा ATM या बैंक ब्रांच में जाकर भी ये सेवाएं शुरू कराई जा सकती हैं. 

पुराने या मौजूदा डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स के लिए जिसमें कभी ऑनलाइन, कॉन्टैक्टलेस और इंटरनेशनल सेवाओं का इस्तेमाल नहीं किया गया, उनमें ये सर्विसेज बंद कर दी जाएंगी. लेकिन रीन्यू हुआ कार्ड या नए जारी हुए कार्ड्स में ये सेवाएं देनी हैं या नहीं, बैंक अपने विवेक के आधार पर फैसला लेगा. 

On-Off का सिस्टम 
कार्ड फ्रॉड से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप अपनी मर्जी के हिसाब से सेवाओं को कभी भी बंद और चालू कर सकते हैं. जैसे अगर आप PoS या ATM से लेन-देन नहीं चाहते, सिर्फ ऑनलाइन पेमेंट ही करना चाहते हैं तो आप इसे कभी भी डिसेबर (Disable) और इनेबल (Enable) कर सकते हैं. इसके अलावा आपके कार्ड से निकाली जाने वाली राशि को भी सीमित कर सकते हैं, जैसे अगर आप चाहते हैं कि आपके कार्ड से एक दिन में 5000 रुपये से ज्यादा का न तो पेमेंट हो सके और न ही ATM से निकासी हो सके, तो आप इसको फिक्स कर सकते हैं. इसे आप जब चाहें घटा या बढ़ा भी सकते हैं, यानि आपके कार्ड पर पूरी तरह से आपका नियंत्रण होगा. मगर ये लिमिट बैंक की ओर से दी गई सीमा के अंदर ही होनी चाहिए. 

 डेबिट-क्रेडिट कार्ड सेवाओं को ऐसे मैनेज करें 
1. सबसे पहले आपको आपको अपने बैंक अकाउंट में मोबाइल या नेटबैंकिंग के जरिए log in करना है.
2. फिर कार्ड्स सेक्शन में जाकर, ‘manage cards' को चुनें
3. इसमें आपको दो विकल्प मिलेंगे domestic और international
4. इसमें से जिसमें भी आपको बदलाव करना है उस विकल्प को चुनें 
5. जो भी लेन-देन बंद करना चाहते हैं तो off कर दीजिए, शुरू करना चाहते हैं तो on कर दीजिए
6. अगर लेन-देन की लिमिट को सीमित करना चाहते हैं तो मोड के हिसाब से उसे भी कर सकते हैं

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: