रविवार, 23 फ़रवरी 2020 | 01:45 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | सियाचिन में तैनात टिहरी जिले के साबली गांव निवासी जवान की अत्यधिक ठंड व ऑक्सीजन की कमी की वजह से मौत

सियाचिन में तैनात टिहरी जिले के साबली गांव निवासी जवान की अत्यधिक ठंड व ऑक्सीजन की कमी की वजह से मौत


सियाचिन में तैनात टिहरी जिले के साबली गांव निवासी जवान की अत्यधिक ठंड व ऑक्सीजन की कमी की वजह से मौत हो गई है। जवान की मौत की खबर मिलते ही क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई है। चंबा ब्लाक के साबली गांव निवासी हवलदार रमेश बहुगुणा (38) पुत्र स्व. टीकाराम बहुगुणा फरवरी 2002 में महार रेजीमेंट में भर्ती हुए थे। अगस्त 2019 में उनकी तैनाती सियाचिन में हुई थी।

31 जनवरी को जवान की तबियत बिगड़ने पर उन्हें उपचार के लिए एक फरवरी को चंडीगढ़ सेना के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। तीन दिन अस्पताल में उपचार के दौरान उन्होंने सोमवार रात को अंतिम सांस ली। जवान की मौत की खबर मिलते ही उनके घर व गांव में शोक की लहर दौड़ गई है।

तीन भाइयों में सबसे छोटे हवलदार रमेश बहुगुणा अपने पीछे दो छोटे बच्चे, पत्नी और मां को छोड़ गए। उनके भाई दिनेश बहुगुणा ने बताया कि रमेश के बीमार होने की सूचना पर वे चंडीगढ़ गए थे, जहां चिकित्सकों ने रमेश की मौत का कारण अत्यधिक ठंड व ऑक्सीजन की कमी होना बताया है।

माइनस 40 डिग्री तापमान वाले सियाचिन बार्डर पर देश की सुरक्षा में तैनात जवान बेटे की शहादत के बाद मां और पत्नी सदमे में हैं। हवलदार रमेश ने मार्च में बच्चों के एडमिशन के लिए घर आने का वादा किया था। दोनों छोटे बच्चे पापा के घर लौटने के इंतजार में थे। शहादत की खबर सुनते ही जहां मां सरस्वती देवी सदमे में है,वहीं पत्नी लक्ष्मी बदहवास स्थिति में अपने बेटा अभिनव व बेटी वैष्णवी के साथ नई टिहरी से अपने घर साबली पहुंच गई। रमेश का बेटा पहली व बेटी एलकेजी में पढ़ती है।

पिछली बार नवंबर 2019 में जब हवलदार रमेश ड्यूटी पर गए थे। तब उन्होंने बच्चों से नई कक्षा में एडमीशन दिलाने के लिए मार्च में घर आने का वादा किया था। रमेश के निधन की खबर गांव में फैलते ही मातम पसर गया है। बड़े भाई दिनेश बहुगुणा और महेश बहुगुणा घटना से जहां काफी दुखी और आहत हैं।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सियाचिन में तैनात टिहरी जिले के साबली गांव निवासी जवान के मौत पर दुःख जातते हुए। जवान को शहीद का दर्जा दिया और सोशल मीडिया पर श्रद्धांजलि अर्पित की है। सीएम ने सोशल मीडिया पर लिखा कि सियाचिन में अत्यधिक ठंड व ऑक्सीजन की कमी की वजह से वहाँ तैनात टिहरी जिले के शामली गांव निवासी 38 वर्षीय हवलदार रमेश बहुगुणा (महार रेजीमेंट) देश के लिए शहीद हुए हैं। मैं शहीद की शहादत को नमन् करता हूँ। ईश्वर शहीद जवान की आत्मा को शांति दे। शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूँ। सरकार शहीदों के परिजनों के साथ हर समय खड़ी है



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: