रविवार, 23 फ़रवरी 2020 | 02:35 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
भारत बना रहा है नेवी के लिए नई हाईटेक क्रूज मिसाइल, जद में होगा पाकिस्‍तान          भारतीयों के स्विस खातों, काले धन के बारे में जानकारी देने से वित्त मंत्रालय ने किया इंकार          पीएम की कांग्रेस को खुली चुनौती,अगर साहस है तो ऐलान करें,पाकिस्तान के सभी नागरिकों को देंगे नागरिकता          नागरिकता संशोधन कानून पर जारी विरोध के बीच पीएम मोदी ने लोगों से बांटने वालों से दूर रहने की अपील की है          भारतीय संसद का ऐतिहासिक फैसला,सांसदों ने सर्वसम्मति से लिया फैसला,कैंटीन में मिलने वाली खाद्य सब्सिडी को छोड़ देंगे           60 साल की उम्र में सेवानिवृत्त करने पर फिलहाल सरकार का कोई विचार नहीं- जितेंद्र सिंह          मोदी सरकार का बड़ा फैसला, दिल्ली की अवैध कॉलोनियां होगी नियमित          पीओके से आए 5300 कश्मीरियों के लिए मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मिलेंगे साढ़े पांच लाख रुपये          पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कबूल किया कि उनका देश कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिशों में नाकाम रहा          संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी माना,जलवायु परिवर्तन से निपटने में अहम है भारत की भूमिका          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | देश | घाटी में 70-80 के दशक जैसा माहौल चाहते हैं, सब ठीक रहा तो बिना बंदूक के मिलेंगे-बिपिन रावत

घाटी में 70-80 के दशक जैसा माहौल चाहते हैं, सब ठीक रहा तो बिना बंदूक के मिलेंगे-बिपिन रावत


जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाला अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर थल सेना अध्यक्ष बिपिन रावत ने मंगलवार को पाकिस्तान का नाम लिए बगैर कहा कि विरोधी नियंत्रण रेखा (एलओसी) सक्रिय करना चाहता है तो यह उसकी इच्छा है। हर कोई एहतियातन तैनाती करता है। हमें इसके बारे में बहुत चिंतित नहीं होना चाहिए। हम एलओसी पर पाकिस्तान की हर हरकत का जवाब देंगे। जहां तक सेना और अन्य सेवाओं का सवाल है तो हमें हमेशा तैयार रहना चाहिए। साथ ही उन्होंने कहा कि हम हर चुनौती के लिए तैयार रहते हैं। किसी भी हालात से निपटने के लिए तैयार हैं।

अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद घाटी की स्थिति पर आर्मी चीफ ने कहा कि 70-80 के दशक में लोगों के साथ जो बेहतर माहौल था, हम फिर से वही चाहते हैं। कश्मीर की जनता के साथ हमारा मेल मिलाप मजबूत है। हमें वहां तैनात किया गया था और हम बिना बंदूक के मिलते थे और अगर सब कुछ ठीक रहा, तो हम फिर से बिना बंदूक के मिलेंगे।

 गौर हो कि हाल ही में मोदी सरकार ने संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू कश्मीर को मिलने वाला विशेष दर्जा खत्म कर दिया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि इस अनुच्छेद को खत्म करने से इस प्रदेश में आतंकवाद का खात्मा होगा और क्षेत्र विकास के मार्ग पर आगे बढ़ेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि इस अनुच्छेद से देश को फायदा नहीं था।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: