शुक्रवार, 7 अगस्त 2020 | 03:12 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
पीएम मोदी ने रखी राम मंदिर की नींव, देश भर में घर-घर दीप प्रज्ज्वलित कर मनाई जा रही है खुशियां          उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           कोटद्वार में अतिवृष्टि से सड़क पर आया मलबा, बरसाती नाले में बही कार, चालक की मौत          चारधाम देवस्थानम बोर्ड मामले में उत्तराखंड सरकार को बड़ी राहत,सुब्रह्मण्यम स्वामी की याचिका हाईकोर्ट          प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से की केदारनाथ के निर्माण कार्यों की समीक्षा, कहा धाम के अलौकिक स्वरूप में और भी वृद्धि होगी          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | उत्तराखंड | लॉकडाउन में किसानों को राहत,नैनीताल सेब की हुई बम्पर पैदावार

लॉकडाउन में किसानों को राहत,नैनीताल सेब की हुई बम्पर पैदावार


नैनीताल जिले की फ्रूट बेल्ट कहे जाने वाले रामगढ़ और मुक्तेश्वर में इस बार सेब की बम्पर पैदावार हुई है। इस भारी उपज से किसानों के चेहरे खिले हुए हैं। जनवरी और फरवरी महीने में हुई बर्फ़बारी को सेब की अच्छी पैदावार का कारण बताया जा रहा है।
नैनीताल जिले का रामगढ़ और मुक्तेश्वर क्षेत्र सेब, आड़ू, प्लम सहित कई पहाड़ी फलों की खेती के लिए जाना जाता है। यहां के फलों की मांग देश भर के कई राज्यों की मंडियों में होती है। इन पहाड़ी फसलों के व्यापार से किसानों का साल भर भरण पोषण होता है। इसलिए सेब की अच्छी पैदावार देखकर किसानों के चेहरे खिले हुए हैं।

रामगढ़, मुक्तेश्वर और धानाचूली क्षेत्र के किसान बीते कई सालों से जैविक कृषि कर रहे यही कारण है कि इस क्षेत्र के फल काफी स्वादिष्ट और स्वास्थ्य वर्धक होते हैं। इन फलों की मांग दूरदराज़ की मंडियों और बाजारों में होती है। सेब की अच्छी पैदावार से संतुष्ट किसानों के सामने ये चिंता भी बनी हई है कि कोरोना संक्रमण के कारण आई मांग में गिरावट के चलते फसल खेतों से मंडियों तक कैसे पहुंच पाएगी।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: