सोमवार, 25 अक्टूबर 2021 | 12:12 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने अयोध्या में रामलला और हनुमानगढ़ी के दर्शन          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी एवं माताश्री मंगला जी ने किया हंस फाउण्डेशन डायलिसिस केन्द्र का लोकार्पण          सीएम ने उत्तराखण्ड जन विकास समिति के पहल 2021 अधिवेशन का शुभारम्भ किया          जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से मुठभेड़ में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद,सीएम धामी ने जताया गहरा दुःख          महिला मंगल दल एवं युवक मंगल दल के लिए आर्थिक सहायता के लिए शासनादेश जारी          सीएम धामी ने गुवाहाटी में शहीद हुए सेना के जवान सोनित कुमार सैनी को दी श्रद्धांजलि          मुख्य सचिव ने पर्यटन विभाग के अधिकारियों को दिए निर्देश, माउंटेनियर्स और ट्रैकर्स के लिए होगी रिस्टबैंड की व्यवस्था          सीएम हेल्पलाइन पर प्राप्त जन शिकायतों का समाधान समयबद्धता से हो-सीएम धामी         
होम | देश | कांग्रेस का हाथ थामने जा रहे कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी

कांग्रेस का हाथ थामने जा रहे कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी


कांग्रेस में बहुत जल्दी जेएनयू के पूर्व छात्र संघ के नेता कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी शामिल हो सकते हैं। दोनों नेता के कांग्रेस में शामिल होने का ऐलान 28 सितंबर को किया जा सकता है। इसी महीने राजनीतिक गलियारों में सुगबुगाहट शुरू हो गई थी कि कन्‍हैया कुमार ने कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की है। ये भी कहा गया कि कन्हैया एक नहीं, बल्कि दो बार राहुल से मिले हैं। कन्‍हैया कुमार ने हालांकि राहुल गांधी से किसी भी तरह की मुलाकात की बात को लगातार खारिज किया है, लेकिन मीडिया रिपोर्ट्स में यह तक दावा किया गया इन दोनों बैठकों में प्रशांत किशोर भी मौजूद थे। कन्हैया कुमार को 2019 लोकसभा के चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा था। वो भाकपा के टिकट से चुनावी मैदान में उतरे थे। भाजपा के दिग्गज नेता गिरिराज सिंह ने उन्हें बड़े अंतर से हराया था। राजनीतिक पंडितों का मानना है कि अगर वे कांग्रेस का दामन थामते हैं तो ये उनकी राजनीतिक पारी की नई शुरुआत होगी। कहा ये भी जा रहा है कि कांग्रेस कन्हैया कुमार के सहारे बिहार में अपनी कमज़ोर होती जमीन को मजबूत करना चाहती है। कई चुनाव हार चुकी कांग्रेस अब खुद को बदलने की तैयारी शुरू कर दी है। पार्टी की नजर लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव पर भी है। जीत हासिल करने के लिए पार्टी जातीय समीकरणों के साथ युवाओं पर दांव लगाने जा रही। 2024 के चुनाव में जीत के लिए हिसाब-किताब बैठाए जा रहे हैं। कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी को पार्टी में शामिल किया जा रहा है। माना जा रहा है कि कन्हैया को बिहार कांग्रेस की अहम जिम्मेदारी दी जा सकती है। अगर कांग्रेस में ये दोनों युवा नेता शामिल हो जाते हैं तो कांग्रेस नई पीढ़ी को बड़ा संदेश दे सकती है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: