रविवार, 27 सितंबर 2020 | 10:35 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
टाइम मैग्जीन ने जारी की दुनिया के 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट,पीएम मोदी लिस्ट में इकलौते भारतीय ने          पीएम मोदी ने फिट इंडिया मूवमेंट के एक साल पूरा होने पर,बताए अपनी फिटनेस के सीक्रेट          डीआरडीओ को मिली बड़ी कामयाबी,अर्जुन टैंक से लेजर गाइडेड एंटी टैंक मिसाइल का सफल परीक्षण          ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर डीन जोन्स का मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से निधन          पॉलिसी उल्लंघन के कारण गूगल ने पेटीएम को हटाया,पेटीएम ने कहा,पैसे हैं सुरक्षित          प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के किसानों को आश्वस्त किया कि लोकसभा से पारित कृषि सुधार संबंधी विधेयक उनके लिए रक्षा कवच का काम करेंगे           उत्तराखंड में भूमि पर महिलाओं को भी मिलेगा मालिकाना हक          सीएम रावत ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लिखा पत्र,उत्तराखंड में आइटी सेक्टर में निवेश करने का किया अनुरोध           कोरोना के चलते रद्द हुई अमरनाथ यात्रा,अमरनाथ श्राइन बोर्ड ने रद्द करने का किया एलान           बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार         
होम | धर्म-अध्यात्म | उत्तराखंड में मौजूद है छोटा अमरनाथ

उत्तराखंड में मौजूद है छोटा अमरनाथ


बाबा अमरनाथ के दर्शनों के लिए हर साल लाखों श्रद्धालु जम्मू-कश्मीर की यात्रा करते हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर की तरह उत्तराखंड में भी बाबा बर्फानी विराजते हैं। बाबा बर्फानी की ये गुफा चमोली जिले के नीती घाटी में स्थित है। यहां बाबा बर्फानी के मंदिर को टिम्मरसैंण महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है। बाबा बर्फानी की मौजूदगी के चलते इस जगह को लोग छोटा अमरनाथ धाम के नाम से भी जानते हैं। दिसंबर से मार्च तक यहां बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। इस मंदिर को श्रद्धालु नीती महादेव मंदिर के नाम से जानते हैं। जो कि चमोली जिले में जोशीमठ से सौ किलोमीटर दूर भारत-चीन सीमा पर स्थित अंतिम गांव नीति में है। मंदिर के पास ही एक गुफा है जहां दिसंबर से मार्च के बीच बर्फ का शिवलिंग आकार लेता है। शिवलिंग पर पहाड़ से लगातार जलधारा गिरती रहती है। स्थानीय लोगों के साथ ही सेना और आईटीबीपी के जवानों के लिए भी इस गुफा का विशेष महत्व है।

सेना के जवान यहां माथा टेकने के बाद ही आगे का रास्ता तय करते हैं। ये पूरा इलाका सेना के नियंत्रण में है, जिस वजह से यहां आने के लिए श्रद्धालुओं को सेना की परमिशन लेनी पड़ती है। स्थानीय लोग कहते हैं कि यहां बाबा बर्फानी सदियों से विराजमान हैं, हालांकि बाहरी लोगों को इस जगह के बारे में कम ही पता है। ये गुफा टिम्मरसैंण में पहाड़ी पर स्थित है। सर्दियों में बर्फबारी के बाद यहां 10 फुट ऊंचा शिवलिंग बन जाता है, शीतकाल के बाद जब बर्फ पिघलती है तो शिवलिंग मूल आकार में आ जाता है। बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए श्रद्धालु सड़क से दो किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई कर गुफा तक पहुंचते हैं। कहा जाता है कि यहां मांगी हर मुराद बाबा बर्फानी जरूर पूरी करते हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: