रविवार, 21 जुलाई 2019 | 09:12 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
81 साल की उम्र में शीला दीक्षित का निघन          शीला दीक्षित 15 साल तक दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं थी          दिल्ली की सबसे लोकप्रिय मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का दिल्ली में निधन          इसरो ने किया ऐलान, अब 22 जुलाई को लॉन्च होगा चंद्रयान-2          कुलभूषण जाधव मामले पर पीएम मोदी ने जताई खुशी कहा- ये सच्चाई और न्याय की जीत है          भारतीय वायुसेना के लिए गेम चेंजर साबित होगी राफेल-सुखोई की जोड़ी,एयर मार्शल भदौरिया          कुलभूषण जाधव केस, ICJ में भारत की बड़ी जीत, फांसी की सजा पर रोक, पाकिस्तान को सजा की समीक्षा का आदेश          गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान, कहा- सभी घुसपैठियों और अवैध प्रवासियों को करेंगे देश से बाहर          पीएम नरेंद्र मोदी सितंबर में अमेरिका जाएंगे, जहां भारतीय समुदाय के लोगों से उनकी मुलाकात हो सकती है। इस दौरान दुनिया के कई अन्‍य देशों के नेताओं से भी मुलाकात की संभावना है          भाजपा को 2016-18 के बीच 900 करोड़ रू से ज्यादा चंदा मिला, एडीआर की रिपोर्ट में आया सामने          बैंकों और बीमा कंपनियों में लावारिस पड़े हैं 32,000 करोड़ से भी ज्यादा पैसे, नहीं है कोई दावेदार          बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे तेज प्रताप यादव ने किया तेज सेना का गठन           भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | धर्म-अध्यात्म | उत्तराखंड में मौजूद है छोटा अमरनाथ

उत्तराखंड में मौजूद है छोटा अमरनाथ


बाबा अमरनाथ के दर्शनों के लिए हर साल लाखों श्रद्धालु जम्मू-कश्मीर की यात्रा करते हैं, लेकिन जम्मू-कश्मीर की तरह उत्तराखंड में भी बाबा बर्फानी विराजते हैं। बाबा बर्फानी की ये गुफा चमोली जिले के नीती घाटी में स्थित है। यहां बाबा बर्फानी के मंदिर को टिम्मरसैंण महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है। बाबा बर्फानी की मौजूदगी के चलते इस जगह को लोग छोटा अमरनाथ धाम के नाम से भी जानते हैं। दिसंबर से मार्च तक यहां बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। इस मंदिर को श्रद्धालु नीती महादेव मंदिर के नाम से जानते हैं। जो कि चमोली जिले में जोशीमठ से सौ किलोमीटर दूर भारत-चीन सीमा पर स्थित अंतिम गांव नीति में है। मंदिर के पास ही एक गुफा है जहां दिसंबर से मार्च के बीच बर्फ का शिवलिंग आकार लेता है। शिवलिंग पर पहाड़ से लगातार जलधारा गिरती रहती है। स्थानीय लोगों के साथ ही सेना और आईटीबीपी के जवानों के लिए भी इस गुफा का विशेष महत्व है।

सेना के जवान यहां माथा टेकने के बाद ही आगे का रास्ता तय करते हैं। ये पूरा इलाका सेना के नियंत्रण में है, जिस वजह से यहां आने के लिए श्रद्धालुओं को सेना की परमिशन लेनी पड़ती है। स्थानीय लोग कहते हैं कि यहां बाबा बर्फानी सदियों से विराजमान हैं, हालांकि बाहरी लोगों को इस जगह के बारे में कम ही पता है। ये गुफा टिम्मरसैंण में पहाड़ी पर स्थित है। सर्दियों में बर्फबारी के बाद यहां 10 फुट ऊंचा शिवलिंग बन जाता है, शीतकाल के बाद जब बर्फ पिघलती है तो शिवलिंग मूल आकार में आ जाता है। बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए श्रद्धालु सड़क से दो किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई कर गुफा तक पहुंचते हैं। कहा जाता है कि यहां मांगी हर मुराद बाबा बर्फानी जरूर पूरी करते हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: