सोमवार, 25 अक्टूबर 2021 | 02:05 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
सीएम पुष्कर धामी ने अयोध्या में रामलला और हनुमानगढ़ी के दर्शन          मुख्यमंत्री पुष्कर धामी एवं माताश्री मंगला जी ने किया हंस फाउण्डेशन डायलिसिस केन्द्र का लोकार्पण          सीएम ने उत्तराखण्ड जन विकास समिति के पहल 2021 अधिवेशन का शुभारम्भ किया          जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से मुठभेड़ में उत्तराखंड के दो और जवान शहीद,सीएम धामी ने जताया गहरा दुःख          महिला मंगल दल एवं युवक मंगल दल के लिए आर्थिक सहायता के लिए शासनादेश जारी          सीएम धामी ने गुवाहाटी में शहीद हुए सेना के जवान सोनित कुमार सैनी को दी श्रद्धांजलि          मुख्य सचिव ने पर्यटन विभाग के अधिकारियों को दिए निर्देश, माउंटेनियर्स और ट्रैकर्स के लिए होगी रिस्टबैंड की व्यवस्था          सीएम हेल्पलाइन पर प्राप्त जन शिकायतों का समाधान समयबद्धता से हो-सीएम धामी         
होम | क्राइम | तालिबानियों ने मासूम बच्चे पर बरसाए कोड़े

तालिबानियों ने मासूम बच्चे पर बरसाए कोड़े


अफगानिस्तान में कब्जा करने के बाद तालिबान ने अपना जुर्म बरसाना शुरू कर दिया है। जिसकी खबरें मीडिया से लेकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। इसी तरह एक और खबर सामने आयी है। अफगानिस्तान में एक छोटे बच्चे पर कोड़े बरसाए गए हैं। जिसका वीडियो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। एक वीडियो के मुताबिक यह वीडियो ख्वाहान जिले का है। वीडियो में देखा जा सकता है कि एक छोटे बच्चे को सरेआम कोड़े बरसाए जा रहे हैं। इस दौरान वहां भारी तादाद में लोग मौजूद हैं जो सिर्फ इस क्रूरतो का तमाशे की तरह देख रहे हैं या फिर देखने पर मजबूर हैं।  तालिबान से लगभग हर अफगानी बुरी तरह परेशाान है। जो लोग वक्त रहते वहां से किसी दूसरे मुल्क की तरफ चले गए हैं वो इस तरह के मंजर के देखकर भावुक हो जाते हैं। हालांकि कुछ लोग अभी भी बाकी हैं जो अफगानिस्तान में रहकर भी तालिबान के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। सोशल मीडिया पर एक और वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें देखा जा सकता है कि एक लड़की तालिबान के खिलाफ आवाज उठा रहा ही। पिछले तालिबान शासन के दौरान हत्यारों को खुले मैदान में गोली मार दिया जाता था। चोरों का एक हाथ काट दिया जाता था और हाईवे पर डकैती करने वालों के एक हाथ और पैर काट दिए जाते थे। तुराबी के बयानों से यह साफ है कि इन नियमों में कोई बदलाव संभव नहीं है। तुराबी ने इस बात पर लगातार जोर दिया है कि अफगानिस्तान के कानूनों की नींव कुरान होगी और फिर से वही सजा बहाल की जाएगी। तुराबी ने कहा है कि सुरक्षा के दृष्टिकोण से हाथ काटना बेहद जरूरी है। सावर्जनिक तौर पर दंड देने को लेकर हम बातचीत कर रहे हैं और इसे लेकर हम जल्द ही नई नीति विकसित कर लेंगे। इस तरह तालिबान अपने पुराने नियमों कानूनों पर चल रहा है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: