मंगलवार, 30 नवंबर 2021 | 02:38 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने पतंजलि विश्वविद्यालय,हरिद्वार के प्रथम दीक्षांत समारोह में गोल्ड मेडलिस्ट विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि          ओमीक्रॉन कोरोना वेरिएंट की भारत में हुई एंट्री          वर्ष 2025 तक उत्तराखण्ड बनेगा हर क्षेत्र में अग्रणी राज्यःसीएम पुष्कर सिंह धामी          सीएम पुष्कर धामी ने राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग,गायक जुबिन नौटियाल को किया सम्मान          1 दिसंबर से सउदी अरब जा सकेंगे भारतीय          उत्तराखंड में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को मिलेगी 10 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि          T20 रैंकिंग में रोहित शर्मा को हुआ फायदा          15 दिसम्बर तक स्वरोजगार योजनाओं के तहत लोन के निर्धारित लक्ष्य को किए जाने के सीएम धामी ने दिए निर्देश          सीएम योगी आदित्यनाथ एवं सीएम पुष्कर धामी की लखनऊ में हुई बैठक में निपटा उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड का 21 वर्ष पुराना विवाद         
होम | सेहत | दिल्ली की हवाओं में घुलने लगा जहर

दिल्ली की हवाओं में घुलने लगा जहर


दिल्ली में दीपावली के बाद से प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। जिसके कारण लोगों को सांस लेने में परेशानी होती जा रही है। गुरुवार को गाजियाबाद की हवा सबसे अधिक खराब रही। शहर का एक्यूआई 461 रेकॉर्ड किया गया और एक बार फिर गाजियाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर रहा। वहीं नोएडा की आबोहवा में पीएम-2.5 का स्तर लगातार बढ़ रहा है जिसकी वजह से हर तरफ काला सा धुआं नजर आ रहा है। पिछले दो दिन से लोगों को माइग्रेन से लेकर बैचेनी, उल्टी, घुटन आदि तमाम तरह की दिक्कतें होने लगी हैं। प्रदूषण तो पहले भी होता था और सर्दियों में हर बार ही प्रदूषण हवा की गति थमने पर ज्यादा होता है। पिछले कुछ साल में आंखों में जलन, सांसों में घुटन व अन्य प्रकार के इम्पैक्ट इसलिए ज्यादा नजर आ रहे हैं क्योंकि अब हालात सीवियर स्थिति में पहुंच चुके हैं। 15-20 सालों में ट्रैफिक, कंस्ट्रक्शन, इंडस्ट्रीज, उद्योग इनकी ओवरलोडिंग एनसीआर में हो गई है और कंट्रोल सिस्टम उतनी गंभीरता से काम नहीं कर रहा है। जहरीली गैसों की मात्रा भी बढ़ रही है इसलिए तीन-चार साल में लोग आंखों में जलन, सांसों में घुटन जैसे हालात महसूस कर रहे हैं। दिल्ली में लोगों को बहुत ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: