बुधवार, 26 जून 2024 | 03:19 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | देश | 6G इंटरनेट की रेस में कैसे भारत ने 'छलांग ' लगा दी ?

6G इंटरनेट की रेस में कैसे भारत ने 'छलांग ' लगा दी ?


दुनिया के सबसे आधुनिक देश जापान में 6G नेटवर्क 2030 तक लागू होगा, चीन और फिनलैण्ड जैसे देश अभी इसकी तैयारी ही कर रहे हैं और भारत ने 5 G को लांच करने के फौरन बाद 6G का पूरा विजन डॉक्यूमेंट पेश कर दिया है। यानी जापान के टारगेट समय के साथ ही भारत में 6G सर्विस की शुरुआत हो जाएगी। वैसे कोशिश ये है कि दो साल पहले हो जाए। इससे न केवल कारोबार में बढ़ोतरी होगी, बल्कि स्पेस टेक्नोलॉजी में भारत, चीन को टक्कर देने की पोजीशन में आ जाएगा। पीएम मोदी ने जैसे ही 6 G का विजन डॉक्यूमेंट जारी किया, चीन सहित दुनिया के कई देश हैरान रह गए। 6G की इंटरनेट स्पीड 5G से भी  100 गुना तेज होगी. प्रधानमंत्री ने विजन डॉक्यूमेंट रिलीज करते समय ऐलान किया कि 2030 तक इसको रोल आउट कर दिया जाएगा। 
पीएम ने साफ बताया है कि अब गांवों में इंटरनेट शहरों से ज़्यादा इस्तेमाल हो रहा है। इसी के बलबूते पर भारत पूरी दुनिया में डिजिटल पावर बनने की रेस में सबसे आगे पहुंच गया है। यानी कह सकते हैं कि विकसित भारत की 
रफ्तार इंटरनेट के कंधे पर सवार होकर ही आने वाली है। 
6G इंटरनेट आते ही कारोबार का नक्शा ही बदल जाएगा। हवा में उड़ती कारें, डिलीवरी ब्वॉय की जगह ड्रोन ब्वॉय होंगे, रोबो गर्ल्स होंगी। 
आम जिन्दगी में क्या बदलाव आएंगे। सबसे पहले इंटरनेट की फ्रीक्वेंसी और स्पीड सुपरफास्ट हो जाएंगे, डेटा ट्रांसफर की स्पीड 1टेराबाइट तक पहुंच जाएगी। ये 5 जी से100 गुना ज़्यादा स्पीड होगी। वायरलेस कनेक्टिविटी बहुत तेज होगी। 
चैट जीपीटी और आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के नए नए अवतार सामने आएंगे। यूं समझ लीजिए कि ऑफिस वाले बहुत सारे डिजिटल जॉब आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से होने लगेंगे। रिपेशप्सशिनिस्ट, न्यूज़ एंकर, इवेंट एकर्स, वेटर्स, सेल्स गर्ल्स जैसे जॉब पर बड़ी कंपनियां आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस वाली रोबो गर्ल्स को हायर करने लग जाएंगे ।  स्कूल ऑनलाइन होकर इंटरनेशनल मार्केट को टारगेट करेंगे और अंग्रेजी जानने वाले दुनिया के कारोबार पर राज करेंगे। ज़ाहिर है चीनी तब इस मामले में भारत से पिछड़ेगा।  इस बीच 
LG india ने 6G ट्रॉयल्स भी शुरू कर दिए हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी ने हाल ही में जर्मनी के बर्लिन में 6G नेटवर्क का ट्रायल शुरू किया था. इस टेस्टिंग के दौरान 100 मीटर की दूरी पर डाटा भेजा और रिसीव किया गया. इस टेस्टिंग को भी सफल माना गया. 6G नेटवर्क में आप 6 जीबी की मूवी महज 51 सेकेंड में 1000 मेगाबाइट प्रति सेकेंड की रफ्तार से डाउनलोड कर सकते हैं.
पिछले साल जब 5G सर्विस लांच की गई थी, कई लोगों ने इस पर सवाल उठाए थे। लेकिन 120 दिनों के अंदर ही 125 से अधिक शहरों में 5G रोलआउट हो चुका है. देश के लगभग 350 जिलों में 5G सर्विस पहुंच गई है. ये अगले कुछ वर्षों में 6G रोलआउट करने का बड़ा आधार बनेगा.इसीलिए सरकार ने 6G नेटवर्क को आगे बढ़ाने का काम टेलीकॉम डिपार्टमेंट के तहत स्टेट ऑपरेटेड टेलीकम्यूनिकेशन रिसर्च कंपनी C-DoT को सौंपी है. सी-डॉट को दो टूक कह दिया गया है कि 5G को लागू करने के साथ ही 6G नेटवर्क पर भी एक साथ काम तेज करे। 6G नेटवर्क की खास बातें जान लीजिए। 
सबसे पहली बात 6G नेटवर्क 5G से 100 गुना तेज होगा.
जापान में 6G नेटवर्क 2030 तक लॉन्च होने की उम्मीद है.
जापान के अलावा, दक्षिण कोरिया, चीन और फिनलैंड भी 6G नेटवर्क की तैयारी कर रहे हैं.
भारत में 6G नेटवर्क का पूरा प्लान तैयार हो गया है। डीडब्ल्यू की रिपोर्ट के मुताबिक, यूरोपियन यूनियन में 6G नेटवर्क के लिए लाखों यूरो खर्च किए जा रहे हैं.
तो तैयार रहिए, नई क्रांति के आगाज का । अंतरिक्ष में घर बसाने का सपना अब दूर नहीं। 
-

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: