मंगलवार, 3 अक्टूबर 2023 | 03:31 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | पर्यटन

पर्यटन

मुनस्यारी का सरमोली गांव पूरे देश में अव्वल, श्रेष्ठ पर्यटन गांव का पुरस्कार जीता

पर्यटन मंत्रालय ने श्रेष्ठ पर्यटन गांव प्रतियोगिता में सरमोली गांव का चयन किया है। 27 सितंबर को इसकी आधिकारिक तौर पर घोषणा की जाएगी। साथ ही गांव को श्रेष्ठ पर्यटन गांव का पुरस्कार दिया जाएगा। और पढ़ें »

अब कैलास दर्शन को नहीं जाना पड़ेगा चीन, भारत से होंगे दर्शन

सचिव पर्यटन को पत्र भेजकर भारतीय सीमा स्यांगचुंग के पास से कैलास पर्वत दर्शन की कार्ययोजना बनाने का सुझाव दिया गया था। बताया गया कि नारायण आश्रम से लीपूलेख तक कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग के नाभीढांग से लीपूलेख तक ट्रेकिंग मार्ग बनाया गया है। और पढ़ें »

अब चीन बॉर्डर पर नेलांग घाटी में रात गुजार पाएंगे सैलानी, पहले रोक थी

नेलांग तक भी पर्यटकों को मात्र दिन में ही जाने की अनुमति है। रात में यहां पर पर्यटक नहीं जा सकते थे लेकिन अब गंगोत्री नेशनल पार्क ने भैराे घाटी से नेलांग तक केंद्र सरकार की वाइब्रेंट योजना के तहत पर्यटकों के रात में रुकने की व्यवस्था की योजना तैयार कर दी है। और पढ़ें »

2026 तक केदारनाथ रोप-वे तैयार होगा, नहीं चलना पड़ेगा पैदल

गौरीकुंड से सोनप्रयाग को जोड़ने के लिए 500 करोड़ की लागत से फ्लाईओवर ब्रिज बनाने का निर्णय लिया गया। इस पर जल्द काम शुरू होने की उम्मीद है। और पढ़ें »

उत्तराखंड में बाहर से आए यात्रियों को झटका, इस पर्यटक स्थल पर रात में ठहरने की मनाही

उत्तराखंड के इस पर्यटक स्थल पर अब पर्यटकों को नाइट स्टे की अनुमति नहीं दी जाएगी। पर्यटकों के रात्रि विश्राम को लेकर गाइडलाइन जारी की गई है। और पढ़ें »

मैदानों की गरमी से बचने के लिए पहाड़ों में उमड़े सैलानी

मैदानी इलाकों में गर्मी बढ़ते ही अब पर्यटक चकराता की वादियों का भी रुख करने लगे हैं। शुक्रवार रात्रि से ही चकराता में पर्यटकों का जमावड़ा शुरू हो गया था। रविवार को सैलानियों की संख्या में और इजाफा हो गया। पर्यटकों ने चकराता के आसपास सटे पर्यटन स्थलों का सैर सपाटा किया। टाइगर फाल में काफी समय तक पर्यटक नहाकर गर्मी से निजात पाते नजर आए। और पढ़ें »

स्थानीय समुदाय पर खर्च होगी ईको टूरिज्म की 90% कमाई, 10 प्रतिशत हिस्सा ही लेगी सरकार

धामी कैबिनेट ने ईको टूरिज्म गतिविधियों में रेवेन्यू शेयरिंग के प्रस्ताव को मंजूरी दी। पारित प्रस्ताव के तहत अब संरक्षित क्षेत्रों से बाहर वन क्षेत्रों में नए ईको टूरिज्म डेस्टिनेशंस में विभिन्न मदों (प्रवेश शुल्क, साहसिक गतिविधियों, पार्किंग, स्थगन सुविधाओं, कैंपिंग) में लिए जाने वाले शुल्क से होने वाली कमाई का पहले साल में 10 प्रतिशत और आगामी वर्षों में 20 प्रतिशत सरकार के खाते में जमा की जाएगी। और पढ़ें »

पर्यटन का नया अंदाज ' एस्ट्रो विलेज ', बेनीताल में सज गया है उत्तर भारत का पहला एस्ट्रो पार्क

बेनीताल में पर्यटन की संभावनाओं को देखते हुए सड़क से लगे गांवों बणगांव, ऐरवाड़ी, रतूड़ा, सिमतोली, चूलाकोट, मठकोट में होम स्टे खुल गए हैं। यहां आप बेहतरीन स्थानीय व्यंजनों का स्वाद चखने के साथ पहाड़ के रहन-सहन और संस्कृति से रूबरू हो सकते हैं। और पढ़ें »

पर्यटकों की नई पसंद बना उत्‍तराखंड का नया वाटरफॉल, 66 हजार सैलानी पहुंचे

कार्बेट फॉल के जरिये वन विभाग ने 50.59 लाख रुपये पर्यटकों से कमाए। कार्बेट फॉल बहुत ही सुंदर जगह है। पर्यटक खुद को जंगल के बीच पाकर काफी खुश होते हैं। और पढ़ें »

चारधाम यात्रा की पूरी जानकारी, यात्रा के बदले हैं ये नियम, ये काम बिल्कुल न करें

साल 2023 की पहली यात्रा 22 अप्रैल से शुरू होनी है, 25 को केदारनाथ के कपाट खुलेंगे और इसके लिए अब तक 15 लाख लोग रजिस्ट्रेशन करा चुके हैं।- और पढ़ें »

दिल्ली-एनसीआर में गर्मी बढ़ते ही राफ्टिंग के लिए उमड़े सैलानी, 50 हजार से ज़्यादा पर्यटक पहुंचे

इस माह अब तक 50 हजार से अधिक पर्यटक राफ्टिंग का लुत्फ उठा चुके हैं, जबकि मार्च में 51,568 पर्यटकों ने राफ्टिंग की थी। और पढ़ें »

नैनीताल-मसूरी में सैलानियों का जमावड़ा, हाइवे पर घंटों जाम

रामनगर के रिजॉर्ट-होटल पूरी तरह पैक हो गए हैं। हाल यह है कि पर्यटकों को ऑनलाइन बुकिंग पर रिजॉर्ट में कमरे नहीं मिल पा रहे हैं। और पढ़ें »

उत्तराखंड में आज से तीन दिनों का रूट डायवर्जन, तीन दिनों की छुट्टियों के कारण बढ़ेंगे सैलानी

मुक्तेश्वर, कैची जाने वाले यात्री वाहन ज्योलीकोट भवाली मार्ग का प्रयोग करेंगे। यदि प्रशासन फतेहपुर-बसानी-पटवाडांगर रोड वाहनों के लिए खोल देगा तो नैनीताल जाने वाले यात्री वाहन कालाढूंगी न भेजकर उक्त मार्ग से जाएंगे। और पढ़ें »

गर्मियों की छुट्टियों में सरोवर नगरी की यात्रा करिए, मन मोह लेगा खुर्पाताल

नैनीताल का यह व्यू प्वाइंट शहर से करीब तीन किलोमीटर की दूरी पर कालाढूंगी रोड में स्थित है, जिसे खुर्पाताल लेक व्यू प्वाइंट और सनसेट प्वाइंट कहते हैं. यहां आप बिना किसी असुविधा के आसानी से पहुंच सकते हैं. और पढ़ें »

उत्तराखण्ड की सभी चोटियों के दर्शन एक साथ करिए, नैनीताल के पंगूट रोड चले आइए

अगर आपके पास पूरे कुमाऊं रीजन को एक्सप्लोर करने का समय नहीं है तो फिर नैनीताल में एक जगह ऐसी भी है, जहां से आप हिमालय की सभी बड़ी चोटियों को देख पाएंगे। और पढ़ें »
© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: