बृहस्पतिवार, 29 फ़रवरी 2024 | 06:07 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | पर्यटन

पर्यटन

उत्तराखण्ड के ऊंचे पहाड़ों पर जोरदार बर्फबारी, मैदान में बारिश से बढ़ी ठंड

वहीं जिले के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पर्यटन ग्राम रामणी, घूनी, पडेरगांव, ईराणी, पाणा, झींझी आदि गांवों में भी बर्फबारी हुई लेकिन बर्फ जल्दी पिघल गई। बाजारों में ठंड से बचने के लिए दुकानदारों व राहगीरों ने अलाव का सहारा लिया। पोखरी, नंदानगर, पीपलकोटी, नंदप्रयाग आदि क्षेत्रों में भी दिनभर रुक-रुककर बारिश हुई। और पढ़ें »

औली में बर्फ न पड़ने से स्कीइंग को खतरा, नंदा देवी स्लोप में बर्फ न के बराबर

औली में अंतरराष्ट्रीय मानकों का नंदा देवी स्कीइंग स्लोप है। जिसमें स्कीइंग के सभी खेल आयोजित होते रहे हैं। इस स्कीइंग स्लोप को फेडरेशन ऑफ इंटरनेशनल स्कीइंग से मान्यता प्राप्त है। और पढ़ें »

बर्फबारी न होने से 'बर्बाद' हुआ पर्यटन का कारोबार, 80 फीसदी सैलानी 'गायब'

जनवरी में उत्तराखंड में अक्सर बर्फ से लदे पहाड़ नजर आते हैं। पर इस साल मौसम कुछ अलग ही रंग दिखा रहा है। नैनीताल समेत कई हिल स्टेशन पर एक बार भी बर्फ नहीं पड़ी है और जंगल अलग धधक रहे हैं। और पढ़ें »

परिवार संग छुट्टियां बिताने मसूरी पहुंचे सचिन तेंदुलकर, एयरपोर्ट पर फैन्स से मिले

सचिन तेंदुलकर ने अयोध्या में आयोजित प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में भाग लिया था। जिसके बाद मंगलवार को वह विस्तारा की फ्लाइट से देहरादून एयरपोर्ट पहुंचे। और पढ़ें »

उत्तराखंड में देश की पहली हिमालयी एयर सफारी जल्द, जायरोक्राप्टर सर्विस तैयार

जायरोकॉप्टर एयर सफारी में बैठकर आप 60 किमी की यात्रा मात्रा आधे घंटे में कर सकते हैं। अभी तक हरिद्वार में कुल 7 से 8 जायरोकॉप्टर लाए गए हैं, जिनमें एक दिन में 200 से 300 यात्रियों को यात्रा करवाने का प्लान बनाया जा रहा है। दरअसल, एक जायरोकॉप्टर में पायलट के साथ केवल एक ही यात्री बैठ सकता है। और पढ़ें »

उत्तराखंड के चार शहरों से अयोध्या जाएगी रोडवेज बस

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के आदेश के बाद परिवहन निगम टनकपुर के अलावा अब हरिद्वार ऋषिकेश और रामनगर से अयोध्या के लिए रोडवेज की बसों का संचालन किया जाएगा इसके लिए रोडवेज के कर्मचारी और अधिकारी तैयारी करने लगे हैं। और पढ़ें »

अयोध्या जाने का बना रहे हैं प्लान तो इन तारीखों से बचें, नहीं तो होंगे परेशान

शभर के साधू संत भी इस एतिहासिक दिन का हिस्सा बनेंगे। ऐसे में यहां काफी भीड़ होने वाली है और भगवान के दर्शन भी आपको अच्छे से नहीं हो पाएंगे। और पढ़ें »

नए साल का जश्न मनाने ऋषिकेश में उमड़े लोग, कैंप और रिजॉर्ट फुल

हरिद्वार की ओर से तपोवन की ओर जाने वाले वाहनों को भद्रकाली से होते हुए बायपास मार्ग के रास्ते भेजा जाएगा। वहीं तपोवन क्षेत्र से ऋषिकेश आने वाले वाहनों को शिवानंद मार्ग से खराश्रोत होते हुए भेजा जाएगा। और पढ़ें »

नए साल में सैलानियों से पैक हुआ अल्मोड़ा, गहत की दाल, गडेरी की सब्जी की भारी डिमांड

अल्मोड़ा में पर्यटन विभाग में 468 होम स्टे पंजीकृत हैं, अधिकारियों की मानें तो इन दिनों करीब सभी होम स्टे पैक चल रहे हैं। जबकि वीकेंड पर इस बार जागेश्वर में ही दो तीन दिन हर रोज 10 हजार से अधिक पर्यटक मंदिर दर्शन को पहुंचे। इसके अलावा होटलों में भी करीब 70 फीसदी से अधिक एडवांस बुकिंग हो चुकी हैं। और पढ़ें »

विंटर वैकेशंस के लिए उत्तराखण्ड में उमड़े सैलानी, हर तरफ जाम

ऋषिकेश में शिवपुरी, तपोवन और स्वर्गाश्रम क्षेत्र में क्रिसमस और नए साल की तैयारी को लेकर कैंपिंग साइट पूरी तरह से तैयार हैं। रिसॉर्ट में भी पूरी तैयारी है। इन स्थानों पर जश्न मनाने के लिए दिल्ली, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान के करीब 70 प्रतिशत लोगों ने एडवांस ऑनलाइन बुकिंग की है। और पढ़ें »

नैनीताल में रात दस बजे के बाद नहीं बजेगा डीजे, न्यू ईयर और क्रिसमस पर प्रशासन अलर्ट

क्रिसमस व नववर्ष की तैयारियों को लेकर सीओ सिटी ने पर्यटन कारोबारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कारोबारियों से यातायात प्लान का अनुपालन करने व पुलिस का सहयोग करने की अपील की। उन्होंने निर्देशित किया कि क्रिसमस अथवा थर्टी फर्स्ट के आयोजन पर होटलों में संगीत बजाने की अनुमति सक्षम अधिकारी से यथासमय ले लें। रात दस बजे बाद किसी भी दशा में संगीत नहीं बजाएं। और पढ़ें »

सर्दियों में उत्तराखण्ड में घूमने की ये जगहें दीवाना बना देंगी

अगर आप भी इन सर्दियों में बर्फ वाली कोई ठंडी जगह देख रहे हैं, तो चलिए आपको उत्तराखंड की उन खूबसूरत जगहों के बारे में बताते हैं, जहां विंटर्स पर बर्फ ही बर्फ पड़ती है। और पढ़ें »

केदारनाथ धाम को प्लास्टिक कचरा मुक्त करने का अभियान, रिसाइकिल तकनीक पर अमल

उप जिला मजिस्ट्रेट, जितेंद्र वर्मा ने कहा कि ‘स्वच्छ केदारनाथ’ परियोजना, रुद्रप्रयाग के विकास के लिए एक बड़ा कदम है. क्योंकि वे केदारनाथ में शून्य कचरा स्थिति हासिल कर स्थाई रूप से इस पवित्र धाम को सुंदर बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं. और पढ़ें »

मिनी स्विटजरलैण्ड की सैर करनी है तो चोपता घाटी चले आइये, ट्रैकिंग की तैयारी

उखीमठ से होते हुए चोपता जाने के दौरान बीच में एक सारी नाम का गांव पड़ता है। इस गांव से लगभग 3 किलोमीटर की चढ़ाई पर देवरिया ताल स्थित है। ये एक सुंदर प्राकृतिक झील है जो चारों ओर से जंगलों से घिरी हुई है। इस झील के पानी में हिमालय की चोटियों के प्रतिबिंब दिखाई देते हैं। चोपता घाटी की ठंडी और बर्फीली वादियों का आनंद लेने के बाद यहां से 4 किलोमीटर की दूरी तय कर समुद्र तल से 12073 फीट की ऊंचाई पर स्थित तुंगनाथ मंदिर पहुंचा जा सकता है। तुंगनाथ मंदिर उत्तराखंड के पंचकेदारों में से एक तृतीय केदार है। लेकिन शीतकाल के लिए इसके कपाट बन्द हो चुके हैं, जो अब गर्मियों में ही खुलेंगे। और पढ़ें »

श्रीनगर गढ़वाल में बैकुंठ चतुर्दशी मेले की तैयारियां शुरू, 25 नवंबर को जुटेंगे लोग

मेले के आयोजन को लेकर कवायदें तेज हो गई है. जिला प्रशासन व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने में जुट गया है, साथ ही मेले को किस तरह भव्य स्वरूप दिया जाये इसके लिए भी रूपरेखा तैयार की जा रही है. दिवाली के 13 दिनों बाद बैकुंठ चतुर्दशी के दिन से बैकुंठ चतुर्दशी मेला आयोजित किया जाता है. इस वर्ष 25 नवम्बर से मेले का आयोजन होगा. और पढ़ें »
© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: