शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024 | 10:07 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | धर्म-अध्यात्म

धर्म-अध्यात्म

बैशाखी स्नान के लिए हरिद्वार में उमड़े लोग, तीन दिन तक रूट डायवर्ट

पुलिस फोर्स को आवश्यकता के अनुसार महत्वपूर्ण स्थानों पर नियुक्त करें। जिससे मेला क्षेत्र के सभी प्वाइंटों पर फोर्स मानक के अनुसार नियुक्त रहे। कहा कि मेले के दौरान जारी किया गया ट्रैफिक प्लान सभी को स्पष्ट रूप से मालूम होना चाहिए। और पढ़ें »

चारधाम यात्रा के दर्शन के लिए वीआईपी को करना होगा इंतजार, नई पॉलिसी

स बार में चारधाम यात्रा में सीएचसी और पीएचसी के डॉक्टरों की ड्यूटी नहीं लगेगी। यात्रा के लिए अलग से डॉक्टरों की ड्यूटी लगानी होगी, चाहे इसके लिए स्वास्थ्य विभाग को कुमाऊं से डाॅक्टर बुलाने पड़े। और पढ़ें »

फ्लाइट, ट्रेन या बस- कैसे आसानी से अयोध्या पहुंचें ?

उत्तराखण्ड से हरिद्वार और देहरादून से अयोध्या के लिए सीधी बस सेवा है। देहरादून से बस सुबह 11.30 बजे से चलती है और अगले दिन सुबह 5.30 बजे अयोध्या पहुंचा देती है। और पढ़ें »

अयोध्या राम मंदिर के दर्शन करने उमड़ा सैलाब, पहले दिन पांच लाख भक्तों ने किए दर्शन

मंगलवार को पांच लाख से ज्यादा ने रामलला का दर्शन किया। दोपहर तक ही साढ़े तीन लाख भक्त मंदिर में रामलला के दर्शन कर चुके थे। यह संख्या एक दिन में दर्शन के मामले में यूपी में काशी विश्वनाथ मंदिर और वृदावन के बांके बिहारी मंदिर के बाद सबसे अधिक है। और पढ़ें »

मानसखंड मंदिर माला मिशन में कुमाऊं के मंदिर जुड़ेंगे

सचिव कुर्वे ने बताया कि मानसखंड मंदिर माला मिशन में प्रथम चरण में कुमाऊं के मंदिरों में विकास कार्य शुरू किए जा रहे हैं। इसके अधिकांश मंदिरों में होने वाले विकास कार्यों की डीपीआर तैयार हो चुकी है। प्रदेश में साहसिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए एयर सफारी और जायरोकॉप्टर के माध्यम से पर्यटकों को आकर्षित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। और पढ़ें »

अयोध्या मंदिर में भगवान बदरीनाथ के ‘अंग वस्त्रम’ जाएंगे, भ्रिंगराज माला भी होगी साथ

पूर्व धर्माधिकारी आचार्य भुवन चंद्र उनियाल भगवान प्राण प्रतिष्ठा समारोह में बदरीनाथ धाम में भगवान को चढ़ाने वाले अंगवस्त्रम और वह उच्च हिमालयी क्षेत्रों में उगने वाले फूल बुगुलू भ्रिंगराज की बनी सुंदर माला लेकर अयोध्या जायेंगे। ये दोनों चीजें वह भेंट स्वरूप देंगे। और पढ़ें »

हेमकुंड साहिब में बदले मौसम ने सबको किया हैरान, अभी तक पहाड़ों पर बर्फ नहीं

शनिवार को दल निरीक्षण के बाद गोविंदघाट लौट आया है। हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा के वरिष्ठ प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने बताया कि जनवरी महीने में इस समय हेमकुंड साहिब में करीब आधा फीट ही बर्फ है जबकि इस समय पूरा हेमकुंड साहिब बर्फ से ढका रहता था। और पढ़ें »

हेमकुंड साहिब में कड़ाके की ठंड में रोकने पड़े निर्माण कार्य

हेमकुंड साहिब यात्रा के पैदल मार्ग पर पुलना से हेमकुंड साहिब (16 किमी) तक 80 में से 70 मोड़ों का सुधारीकरण कार्य पूर्ण किया जा चुका है। जबकि अटलाकुड़ी में रेस्क्यू हेलिपैड का काम 70 प्रतिशत तक पूरा हो गया है। पुलना और घांघरिया में घोड़ा पड़ाव का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया है। 14 में से 12 रेन शेल्टर भी बनकर तैयार हो गए हैं। और पढ़ें »

दिव्य आध्यात्मिक महोत्सव में शामिल हुए राजनाथ सिंह, कहा- संस्कृति की रक्षा के लिए आध्यात्मिक शक्ति ज

जूना पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि के श्रीपंचदशनाम जूना अखाड़ा की आचार्य पीठ पर पदस्थापना के दिव्य 25 वर्ष पूर्ण होने पर हरिहर आश्रम कनखल में चल रहे दिव्य आध्यात्मिक महोत्सव के दूसरे दिन केंद्रीय रक्षा मंत्री बतौर मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि संन्यासियों का इस राष्ट्र की संस्कृति से गहरा जुड़ाव है। और पढ़ें »

देवोत्थान एकादशी से शुरू हो जाएंगे शुभ कार्य, तुलसी विवाह की महत्ता जान लीजिए

कार्तिक मास शुक्ल पक्ष की एकादशी को भगवान विष्णु सर्वार्थसिद्धि, अमृतसिद्धि योग में अपनी निद्रा त्याग कर फिर से सृष्टि का संचालन करेंगे। इन योगों में सृष्टि का संचालन करना बहुत ही शुभ माना जाता है ।इसके साथ ही पांच माह का चातुर्मास भी समाप्त हो जाएगा। देवोत्थान एकादशी को अबूझ मुहूर्त मानकर विवाह भी किए जाते हैं। और पढ़ें »

पटाखों से जल जाए हाथ या त्वचा तो घबराएं नहीं, तुरंत करिए ये आसान उपाय, मिलेगा आराम

पटाखों से होने वाली जलन भले ही त्वचा पर कम दिखाई देती हो, लेकिन ये कुछ स्थितियों में गंभीर हो सकती है। जले हुए स्थान पर नारियल का तेल लगाने से भी जलन कम हो जाती है। और पढ़ें »

देवोत्थान एकादशी के बाद शुरू होंगे शुभ कार्य, इस साल के 12 शुभ मुहूर्त

हर साल कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को देव उठान एकादशी मनाई जाती है. इस दिन भगवान विष्णु अपनी योग निद्रा से जागते हैं, और इसके बाद से ही मांगलिक कार्यों की शुरुआत होती है. हिंदू धर्म में विवाह का शुभ मुहूर्त को ध्यान में रखकर ही शादियों का मुहूर्त निकाला जाता है. अच्छे वैवाहिक जीवन को बिताने के लिए लोग पूरे रीति-रिवाज के साथ वैवाहिक कार्य संपन्न करते हैं, और इस साल के आखिरी दो महीना में शादी विवाह के 12 शुभ मुहूर्त बन रहे हैं. और पढ़ें »

बागेश्वर धाम के दरबार में दूसरे राज्यों से भी पहुंचे श्रद्धालु, तीन अर्जियां सुनीं

धीरेंद्र शास्त्री ने दरबार में पर्चा खोल समस्या सुननी शुरू कर की। एक के बाद एक लोग उनके पास पर्ची लेकर पहुंचने लगे। बाद में पंडित धीरेंद्र शास्त्री ने दरबार में मंत्र के साथ सामूहिक अर्जी लगवाई। आखिरी तीन अर्जी सुनने के बाद दरबार समाप्ति की घोषणा की गई। और पढ़ें »

देहरादून के परेड ग्राउंड में आचार्य धीरेंद्र शास्त्री का दिव्य दरबार , पर्चे खोले

शनिवार को परेड ग्राउंड के खेल मैदान में पहली बार धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री का दरबार लगा। रात 8:20 बजे धीरेंद्र शास्त्री मंच पर पहुंचे। धीरेंद्र शास्त्री ने मंच को प्रणाम करते हुए हनुमान जी के चरणों मे शीश नवाया। मंच पर सबसे पहले संतो ने सनातन की हुंकार भरी। धीरेंद्र शास्त्री ने कहा कि देवभूमि में कण कण में भगवान का वास है। और पढ़ें »

दिवाली रात के वो आसान उपाय जो घर में धन भंडार भर देंगे

कोई व्यक्ति अगर लंबे समय से आर्थिक समस्या से जूझ रहा है तो दिवाली की रात पीपल के पेड़ के नीचे सात दीपक जलाएं. ऐसा करने से उसकी आर्थिक स्थिति जल्द ठीक हो जाएगी औऱ धन-लाभ होगा. और पढ़ें »
© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: