शनिवार, 16 दिसम्बर 2017 | 06:27 IST
दूसरों की बुराई देखना और सुनना ही बुरा बनने की शुरुआत है।
विजय दिवस के मौके पर शहीदों को दी श्रद्धांजली।           अध्यक्ष बनते ही बीजेपी पार्टी पर तगड़े तंज: राहुल गांधी           राहुल गांधी बने कांग्रेस पार्टी के नये अध्यक्ष।          कोयला घोटाले में मधु कोड़ा को 3 साल की सजा, 25 लाख का जुर्माना           तीन तलाक दिया तो 3 साल की सजा होगी ।          केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ट्रिपल तलाक बिल को दी मंजूरी          राहुल गांधी की ताजपोशी 16 दिसंबर को होगी।          कांग्रेस पार्टी के नये अध्यक्ष बनने जा रहे है राहुल गांधी          हिमाचल प्रदेश व गुजरात विधानसभा चुनावों के फैसले 18 दिसंबर को होंगे जारी।          राज्यसभा में विपक्षी दलों का हंगामा।          लोकसभा 18 दिसंबर तक के लिए स्थगित ।          18 दिसंबर को होगा फैसला: भाजपा या कांग्रेस         
होम | सेहत | क्यो करते है तम्बाकू का नशा, जानिये कैसे बचे ?

क्यो करते है तम्बाकू का नशा, जानिये कैसे बचे ?


जिन्दगी में कुछ बेजोड़ पल जिनमें हम बूरी आदतों के शिकार हो जाते है। जो हम ऊँचाई पर पहुँचने के बाद भी छोड़ नहीं पाते है। बचपन में माँ-बाप से, घर, परिवार चोरी, छिपे नशे की आदतों के शिकार हो जाते है। आज हम आपको तम्बाकू से होने वाले नशे के बारे में बताने जा रहे है। तम्बाकू उत्पादों का सेवन अनेक रूप में किया जाता है, जैसे बीड़ी, सिगरेट, गुटखा, जर्दा, खैनी, हुक्का, चिलम

गैस की शिकायत, काम में मन नहीं लगना, तेज तरार से जोश न होना, इन सबको ध्यान में रखते हुए लोग नशे के शिकार हो जाते है। चाहे वह किसी भी प्रकार का नशा हो।

तम्बाकू के सेवन से हमारे शरीर पर प्रभावित होने वाले अंग- तम्बाकू का नशा (मादकता) या उतेजना देने वाला मुख्य घटक निकोटीन (निकोटीन) है यही तत्व सबसे ज्यादा घातक भी है इसके अलावा तम्बाकू मे अन्य बहुत से कैंसर उत्पन्न करने वाले तत्व पाये जाते है धुम्रपान एवँ तम्बाकू खाने से मुँह्, गला, श्वासनली व फेफडोँ का कैंसर (माउथ, थ्रोट एंड लंग कैंसर) होता है दिल की बीमारियाँ (हार्ट डिजीज) धमनी काठिन्यता, उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) पेट के अल्सर (स्तोमच अलसर), अम्लपित (एसिडिटी), अनिद्रा (इंसोम्निया) आदि रोगों की सम्भावना तम्बाकू उत्पादों के सेवन से बढ़ जाती है।

नशा या तम्बाकू छोड़ने का सीधा फंडा-

• नशा छोड़ने का दृढ़ संकल्प करें। 

• संगत को बदलने की कोशिश करें या सभी मित्रोँ, परिचितों को बता दें कि आपने नशा छोड दिया है ताकि वे आपको नशा करने के लिये बाध्य ना करेँ।

• क्या कारण है जो आपको नशा करने के लिये प्रेरित होते हैं। कोई गम या दिल का दर्द जो बिछुड़ गया हो।

• ये चीजें साथ रखना छोड़ दें- अपने पास सिगरेट, गुटखा, तम्बाकू, एवँ माचिस आदि रखना छोड देँ

कुछ मात्रा में सौंफ एवँ इतनी ही मात्रा मेँ अजवायन लेकर तवे पर भूने, थोडा नींबू का रस एवँ हल्का काला नमक डाल लेँ ल एक डब्बी में रखकर अपनी जेब में रख लें जब भी सिगरेट एवँ तम्बाकू आदि की तलब लगे तो कुछ दाने मुँह मेँ रख लेँ। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: