रविवार, 22 जुलाई 2018 | 06:26 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | देश | शिया बोर्ड के अध्यक्ष ने क्यों कहा कि मदरसे आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं ?

शिया बोर्ड के अध्यक्ष ने क्यों कहा कि मदरसे आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं ?


यूपी के शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी ने पीएम मोदी को चिठ्ठी लिखकर देश की राजनीति से लेकर आम जनता के बीच तक एक नया विवाद छेड़ दिया है, जिसके बाद मुस्लिम समुदाय में अच्छा खासा गुस्सा देखने को मिल रहा है, तो वहीं अब लोग सवाल करने लगे हैं कि मदरसे जैसे शिक्षा संस्थान में क्या वाकई में आतंकवाद को पनाह मिल रही है? क्या वाकई में आतंकवाद सच में ही फलफूल रहा है?

 

आपको बता दें, शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर मदरसा शिक्षा को खत्म करने की मांग की है। मदरसा शिक्षा पर पूरी रिपोर्ट शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड पहले ही प्रधानमंत्री को भेज चुका है और अब उसने सीधा मदरसा शिक्षा को खत्म करने की चिट्ठी प्रधानमंत्री को लिखी है।

 

मदरसा शिक्षा को खत्म करने की वकालत करते हुए, वसीम रिजवी ने प्रधानमंत्री को लिखा है कि स्वतंत्रता के बाद धर्मनिरपेक्ष शिक्षा प्रणाली के विपरीत मदरसा शिक्षा कट्टरपंथियों के द्वारा प्रेरित है। मदरसों में सही ज्ञान नहीं दिया जाता और गलत विचारों से मदरसे में पढ़ने वाले विद्यार्थियों का दिमाग कट्टरपंथ की ओर धकेला जा रहा है, जो भारतीय मुसलमानों के लिए एक अभिशाप बन गया है। मदरसा शिक्षा की वजह से ही भारतीय मुस्लिम लगातार पिछड़ते जा रहे हैं और उनकी सामाजिक और आर्थिक स्थिति बेहद ही खराब है। वसीम रिजवी ने पत्र में सवाल उठाया कि कितने मदरसों ने डॉक्टर, इंजीनियर और आईएएस अफसर पैदा किए हैं? लेकिन कुछ मदरसों ने आतंकी जरूर पैदा किए हैं। उनके इस बयान के बाद काफी विवाद उठ रहा है। अब ये देखना काफी दिलचस्प होगा, ये मुद्दा  और कितना विवाद खड़ा करता है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: