बुधवार, 19 जून 2019 | 12:41 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | विचार | ढलती उम्र की ढलान का सहारा आखिर कौन बनेगा, कौन समझेगा पलायन के इस दर्द को

ढलती उम्र की ढलान का सहारा आखिर कौन बनेगा, कौन समझेगा पलायन के इस दर्द को


जिंदगी की उलझनों में, वो इतने उलझ गए, सदिया बीत गई, उम्र ढ़लती गई, कब जवां हुए कुछ पता ही नहीं चला, आज पलटकर देखा, अपने बीते दिन को, तो पता चला कि आखिर बचपन कहां खो गया।  जीवन की कश्मकश में आज बच्चों का उनसे बचपन ही छीन लिया। प्रतिस्पर्दा की अंधी दौड़ में बच्चे खेलना ही भूल गए।

किसी ने क्या खूब कहा है। बचपन हर गम से बेगाना होता है। जिसमें न तो किसी के लिए कोई ईष्या होती है, और ही किसी को धोखा देने की भावना। जिंदगी में जब भी हम मुसीबतों से घिरे होते है अपने बचपन के उन दिनों को याद करते हैं जब सिर्फ और सिर्फ मौज मस्ती का ही आलम होता था। कितने प्यारे थे वो दिन जब दादी कहानी सुनाया करती थी । जब हमें चोट लगती थी तो मां बड़े ही प्यार से मरहम लगाया करती थी। लेकिन जैसे- जैसे बड़े हुए बचपन भी खोता चला गया। वक्त बीतता गया कब जवानी आई और कब बूढ़ापा , पता ही नहीं चला। मां की वो बचपन की मार आज जीवन की कसौटी पर खरा उतारती है। आज प्रतिस्पर्धा इतनी बड़ गई है कि खेलने की उम्र में बच्चों के कांधों पर करियर बनाने के नाम पर किताबो का बोझ डाल दिया जाता है। वो नन्हा और मासूम मन कितना चंचल , निर्डर था जो कुछ भी करने की हिम्मत रखता था। यहीं नही आज का बचपन सिर्फ एक इलेक्ट्रोनिक डिवाइस पर निर्भर रह गया है। जिसका परिणाम और भी खतरनाक रूप में सामने आ रहा है। आज बच्चे अपना बचपन एक ही कमरे के अंदर मोबाइल पर गेम खेलकर बिता रहे है। इस दौड़ भरी दुनिया की भीड़ में बचपन एक कमरे में सिमट कर रह गया है। अब माता-पिता सोचते हैं कहीं उनके बच्चे के कपड़े गंदे तो नहीं हुए, बच्चा मिट्टी में तो नहीं खेल रहा । लेकिन वो पुराना दौर कितना अच्छा था। जब बच्चे घर के बाहर मिट्टी में खेलते थे और मिट्टी के छोटे- छोटे घर बनाया करते थे। उस मिट्टी के छोटे से घर में वे अपनी जिंदगी देख लिया करते थे। वो गुड़िया और गुड्डों का खेल बच्चों में खेल –खेल में लड़ाई होना और फिर सब कुछ भूलकर एक साथ खेलना। इस बदलती दुनिया में जैसे बचपन भी कहीं बदल गया है। बच्चे आज बचपन से दूर इंटरनेट जैसी बंद तकनीक चीजों से ज्यादा जुड़ रहे है जहां उनका साथी या तो स्मार्ट फोन है या बंद कमरे का कंम्पूटर जिससे उनका बचपन कहीं न कहीं खत्म होता जा रहा ।      

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: