बुधवार, 26 जून 2019 | 04:02 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादे पूरे करने के लिए बनाई समिति, 15 दिनों के भीतर सौंपनी होगी रिपोर्ट          चमकी बुखार मामले पर SC सख्त, केंद्र, बिहार व यूपी सरकार को नोटिस भेजकर सात दिन में मांगा जवाब          विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ली बीजेपी की सदस्यता, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा रहे मौजूद          मायावती का बड़ा ऐलान, BSP भविष्य में छोटे-बड़े सभी चुनाव अकेले लड़ेगी          कांग्रेस ने राज्यसभा में उठाया बढ़ती आबादी का मुद्दा, कहा- नियंत्रण नहीं हुआ तो विकास बेमानी          अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ा,अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो सऊदी अरब के दौरे पर,मौजूदा हालात पर करेंगे चर्चा          रिजर्व बैंक के डिप्‍टी गवर्नर विरल आचार्य ने दिया इस्‍तीफा, 6 महीने बाद समाप्त होना था कार्यकाल          भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | उत्तराखंड | नचिकेता ताल की खूबसूरती देखने के लिए नहीं पहुंच रहे पर्यटक

नचिकेता ताल की खूबसूरती देखने के लिए नहीं पहुंच रहे पर्यटक


उत्तराखंड अपनी खूबसूरती के जाना जाता है, यहां पर कई ऐसी जगहें हैं, जिसे देखने के लिए लाखों की संख्या में लोग पहुंचते हैं, लेकिन वहीं एक स्थान ऐसा भी है, जहां बड़ी संख्या में पर्यटक नहीं पहुंच रहे हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं उत्तरकाशी व टीहरी जिले की सीमा पर स्थित नचिकेता ताल की, जिसकी सुदंरता की दीदार से पर्यटक महरूम हैं। जबकि, नचिकेता ताल ठंड के मौसम में पर्यटन स्थलों में अपना विशेष स्थान रखता है। यहां आने वाले पर्यटकों के लिए वन विभाग ने दस रुपये प्रति पर्यटक प्रवेश शुल्क रखा है, लेकिन इसके बावजूद इस सीजन अब तक मात्र सौ पर्यटक ही नचिकेता ताल पहुंच पाए।

 


बता दें, उत्तरकाशी जिला मुख्यालय से 29 किमी दूर स्थित चौरंगीखाल तक सड़क मार्ग है, फिर वहां से तीन किमी पैदल दूरी तय कर नचिकेता ताल पहुंचा जाता है। 1200 वर्ग किमी क्षेत्र में फैली यह एक बेहद खूबसूरत झील है, जिसके चारों ओर मोरू, बांज, बुरांश व चीड़ का घना वन है। वन विभाग ने झील के चारों ओर टहलने के लिए रास्ता भी बनाया हुआ है, लेकिन जरूरी सुविधाओं के अभाव के चलते उसकी खूबसूरती देखने पर्यटक यहां नहीं पहुंच पा रहे। जबकि, इन दिनों नचिकेता ताल के आसपास का बुग्याली क्षेत्र बर्फ से ढका हुआ है। तीन वर्ष पहले उत्तरकाशी भ्रमण के दौरान तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत ने नचिकेता ताल जाने वाले रास्तों को बेहतर बनाने और वहां पर्यटकों के लिए विश्राम गृह बनाने के निर्देश दिए थे, लेकिन अब तक इस पर कोई अमल नहीं हुआ है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: