बृहस्पतिवार, 20 सितंबर 2018 | 08:37 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | उत्तराखंड | देवभूमि के इस मंदिर में चेहरे बदलती है मां की मूर्ति

देवभूमि के इस मंदिर में चेहरे बदलती है मां की मूर्ति


 

जो देवभूमि उत्तराखंड की रक्षक के रूप में जानी जाती हैं। वहीं दूसरी और अलकनंदा नदी के तट पर स्थित सिद्धपीठ मां धारी देवी के मंदिर में रोजाना ऐसा चमत्कार होता है। जिसके बारे में  सुनकर हर कोई आश्चर्य चकित रह जाता है। जी हां है उत्तराखंड में बदरीनाथ-केदारनाथ यात्रा मार्ग के मुख्य पड़ाव से 15 किमी की दूरी पर स्थित चमत्कारिक इस मंदिर में म‌ूर्ति दिन में तीन बार रूप बदलती हैं। यह मूर्ति एक देवी मां की है कहते हैं यहीं मां काली की कृपा से महाकवि कालिदास को ज्ञान मिला था।

 

माना जाता है कि कालीमठ मंदिर से ही मूर्ति का सिर वाला भाग बाढ़ से अलकनंदा नदी में बहकर धारी गांव नामक स्थान पर आ गया। वहीं मंदिर में दर्शन करने वाले लोगों का कहना है कि यहां मां काली प्रतिदिन तीन रूप बदलती है। वह प्रात:काल कन्या, दोपहर में युवती व शाम को वृद्धा का रूप धारण करती हैं।

 

आपको बता दें कि हर साल चैत्र व शारदीय नवरात्र में हजारों श्रद्धालु अपनी मनौतियों के लिए मंदिर में आते हैं। इसके अलावा चारधाम यात्रा के दौरान भी हर रोज सैकड़ों श्रद्धालु मंदिर पहुंचते हैं। उत्तराखंड के लोग इस पहाड़ों वाली मां को बहुत मानते हैं। लोगों का आरोप है कि उत्तराखंड सरकार ने उनकी एक नहीं सुनी और देवी माता के मंदिर को तोड़ दिया। ये ही नहीं वहां के लोगों का कहना है कि 2013 जून में केदारनाथ में आई आपदा के लिए भी धारी देवी को मंदिर को अपलिफ्ट करना भी एक कारण बताया जाता है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: