शनिवार, 24 जून 2017 | 03:54 IST
दूसरों की बुराई देखना और सुनना ही बुरा बनने की शुरुआत है।
होम | सेहत | पैदल चलकर ही दूर कर सकते है तनाव और डिप्रेशन

पैदल चलकर ही दूर कर सकते है तनाव और डिप्रेशन


शहरीकरण के दौर में विकास के तौर पर जीवन का विकास तो हुआ है, लेकिन इससे इंसान की आम जिन्दगी में तनाव और डिप्रेशन है। शहरों में रहने वाले ज्यादातर लोग डिप्रेशन और तनाव का शिकार। डिप्रेशन से बचने के लिए कई लोग लेट नाइट पार्टी करते हैं, तो कई काउंसलर की मदद ले रहे है। वहीं इससे निजाद पाने के लिए कुछ लोग अल्कोहल या दवाईयों का सहारा भी ले रहे हैं, जबकि इसका इलाज आपके पैदल चलने में छुपा है।
डॉक्टरों की मानें तो, पैदल चलने के साथ-साथ सेहत के लिए दौड़ना भी सेहतमंद है, क्योंकि पैदल चलने और दौड़ने से इंसान के साथ ही उसका दिमाग भी दुरुस्त रहता है। ऐसा माना जाता है कि पैदल चलने से इंसान खुश भी रहता है। बहुत कम ही लोग जानते हैं कि चलने-फिरने में खुश रहने का राज भी छिपा हुआ है। एक रिसर्च के मुताबिक जो लोग बैठे रहते हैं, उनकी तुलना में दिनभर चलने-फिरने वाले लोग ज्या दा खुश रहते हैं। पैदल चलने का तरीका कोई भी हो सकता है, चाहे इंसान जल्दी-जल्दी चले या फिर रूक-रूक कर, क्योंकि पैदल चलना हर तरह से फायदेमंद होता है। पैदल चलने वाले लोग शारीरिक तौर से एक्टिव के साथ-साथ मानसिक तौर पर भी एक्टिव रहते है। वहीं, जो लोग कम चले, वे कम खुश और कम संतुष्ट होते हैं। ऐसे में उन्हें खुश रहने के लिए जल्द ही ज़्यादा से ज़्यादा चलना फिरना शुरू कर देना चाहिए, जिससे आप पर भी काम का तनाव नहीं बनेगा।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: