बुधवार, 19 जून 2019 | 12:41 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | साहित्य | मंच पर जी उठा ‘देवदास’

मंच पर जी उठा ‘देवदास’


सुनील कुमार

प्रेम की पूर्णता उसे पाने में नहीं, बल्कि उसे उत्सर्ग करने में है, इसे केंद्र में रखकर प्रेम और भावुकता से लबरेज नाटक 'देवदास' का मंचन दिल्ली के श्रीराम सेंटर में किया गया। गांधी हिन्दुस्तानी साहित्य सभा, सुमुख एवं प्रिज्म थियेटर की ओर से मंचित किया गया यह नाटक शरत चन्द्र चट्टोपाध्याय के लोकप्रिय उपन्यास ‘देवदास’ पर आधारित था। इस नाटक में देवदास के किरदार में साहिल सिंह सेठी, और एनब खिज्रा पारो की भूमिका में दर्शकों पर जबर्दस्त प्रभाव छोड़ते हैं, जबकि सुशील सिंह ‘चुन्नीबाबू’ और मेघा माथुर ‘चंद्रमुखी’ की भूमिका दर्शकों को सम्मोहित करने में कामयाब होती हैं। किरदार इस तरह के मंच पर जीवंत होते हैं कि वह परिस्थितियों के भंवर में पड़े मानवीय संवेदनाओं, प्रेम और संबंधों को उबारकर उन्हें नयी ऊंचाइयों तक पहुंचाने में कामयाब होते हैं। वैसे नाटक आसान नहीं रहा है, लेकिन मंच पर उतरे कलाकारों ने सफलतापूर्वक उसका मंचन कर दिखाया।

पारो और चंद्रमुखी के बीच संवादों के चित्रण में मेघा माथुर और एनब खिज्रा पूरी तरह से कामयाब हुई हैं और उनके बीच की संवाद अदायगी बार-बार कलाप्रेमियों के मन-मस्तिष्क को आकर्षित करती है। ऐसा शायद इस वजह से था कि देवदास इन्हीं दो किरदारों के बीच दिशाहीन भटकता दिखता है और ये दोनों किरदार अपनी अपनी मर्यादाओं में खुद को संजोये-समेटे देवदास की तुलना में कहीं ज्यादा ऊंचा स्थान पाते दिखते हैं।  निश्चित दौर पर अरविंद के निर्देशन में मंचित ‘देवदास’ का कथानक, पात्र, परिस्थितियां और संवाद शरदचंद्र के हैं लेकिन उसकी प्रस्तुति भिन्न दिखती है और अरविंद उसमें सफल दिखते हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: