बृहस्पतिवार, 21 जून 2018 | 05:49 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | रोजगार | जॉब के साथ सुरक्षित करें भविष्य

जॉब के साथ सुरक्षित करें भविष्य


यह बहुत बड़ी हकीकत है कि, कोई भी व्यक्ति जॉब को लेकर सिक्योर नहीं होता है। दुनिया के हर पेशे में लोग हमेशा सर्वाइव करने का तरीका ढूंढते रहते हैं। अगर आपके हिसाब से सेवा उपलब्ध न हो, तो तुरंत आपको बाहर कर दिया जाता है। अगर आप ऑर्गेनाइजेशन को काफी वैल्यू दे रहे हैं और सेवा के लिए उपलब्ध हैं, तो आपको हटाने के लिए उन्हें सोचना पड़ेगा, साथ ही अगर किसी भी संस्था को आपसे बेहतर विकल्प मिल गया है तो वो आपको निकालते हुए एक बार नहीं सोचेगी। ऐसा ही पैरामेडिकल की दुनिया में भी है। पैरामेडिकल की क्षेत्र में जितनी आसानी और जल्दी नौकरी मिलती है। उतनी ही आसानी से आपकी नौकरी जा भी सकती है। मेडिकल लाइन में आपकी नौकरी पर हमेशा खतरा में मंडराता रहता है।

 

आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहे हैं, जिन्हे, अपनाकर आप आपनी नौकरी बचा सकते है।

 

1.पैरामेडिकल हो या दुनिया की कोई भी नौकरी हो, अगर आप अपने काम के प्रति वफादार और सजग नहीं हैं, तो आपकी नौकरी पर हमेशा खतरा मंडराता रहेगा। पैरामेडिकल के क्षेत्र में अगर आप जमकर पैसा कमाना चाहते हैं तो आपको रोज अपने आप को निखारना पड़ेगा साथ ही उन सभी चीजों को सीखना पड़ेगा, जो आपको मोटी सेलरी के साथ आपकी नौकरी भी सुरक्षित रख सकें।

 

2. पैरामेरडिकल के क्षेत्र में एक अच्छे व्यवहार की बेदह जरूरत होती है। आपके अंदर धैर्य होना भी बेहद जरूरी होता है, इसलिये पैरामेडिक स्टाफ का ऐसा नेचर होना चाहिये, जिससे वो मरीजों से अच्छी तरह से घुल मिल सके और उन्हें इस बात का विश्वास दिला सके कि, उनकी बीमारी इतनी बढ़ी नहीं है जितना वो समझ रहे हैं। विदेशों में अगर पैरामेडिक स्टाफ सबसे ज्यादा भारतीय होता है। उन्हें ये बात अच्छे से पता होती है कि, भारतीयों के अंदर दयाभाव होता है। इसी भावना के चलते उन्हें विदेशों में जाने के अवसर मिलते हैं।

 

3. पैरामेडिकल स्टाफ का नेचर ऐसा होना चाहिये, जिससे वो हर व्यकित के साथ जुड़ सके और उन्हें समझ सके। पैरामेडिकल का ये ही नेचर उन्हें आगे तक पहुंचाता था। बिना किसी से भेदभाव के मरीज के साथ अच्छे से रहना बीमार लोगों को आधी राहत तो ऐसे ही दे देता है।

 

4. कमजोरियों पर काबू पाकर आप दुनिया की कोई भी चीज पा सकते हैं, इसलिये हमेशा पैरामेडिक स्टाफ को अपनी कमजोरियों पर काम करना चाहिये, ताकि वो एक मरीज का बेहतर इलाज कर सकें। साथ ही अपनी नौकरी को भी बचा सकें, क्योंकि एक अच्छा व्यावहार हमेशा मुसीबतों से बाहर निकालता है।

 

5. किसी भी स्थिति में मेडिकल स्टाफ को हमेशा मुस्कुराते रहना चाहिये। उनका ये ही व्यवहार उन्हें आगे बढ़ाता है और बीमार लोगों को भी राहत देता है। पैरामेडिकल स्टाफ को माहौल के हिसाब से ढलना आना चाहिये ।

 

6. डॉक्टर को हमेशा भगवान के बाद दूसरा दर्जा दिया जाता है, इसलिये एक डॉक्टर से लेकर उसके पैरामेडिकल स्टाफ में अपने मरीज को सुनने की क्षमता होनी चाहिए, तकि वो उनकी परेशानियों को सुन सके और उन्हें मानसिक राहत के साथ शारीरिक राहत भी दे सकें।

 

अगर आप मेडिकल के क्षेत्र में इन सभी बिन्दुओं पर खरें उतरते हैं, तो आपकी नौकरी भी सुरक्षित है और आपका भविष्य भी सुरक्षित होगा। ये सारी की सारी चीजें आपको दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट में मिलेंगी। क्योंकि देश से लेकर दुनिया में पैरामेडिकल के कई संस्थान हैं, जो मोटी फीस तो लेते हैं, लेकिन इस क्षेत्र से जुड़ी हुई व्यावहारिकता के बारे में कोई नहीं बताता। अगर आप पैरामेडिकल की दुनिया में अच्छा पैसा और सुरक्षित भविष्य चाहते हैं, तो आप दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट से पैरामेडिकल से जुड़े कई कोर्स कर सकते हैं। पैरामेडिकल के क्षेत्र में अगर सबसे बेहतरीन की विकल्प है, तो वो है दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट, जो बेहद कम फीस में देश के हर राज्य में बच्चों का भविष्य संवार रहा है और उन लोंगो के सपने पूरे कर रहा है, जो मोटी फीस के चलते इस पेशे से नहीं जुड़ पाते हैं।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: