बुधवार, 19 जून 2019 | 01:01 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | साहित्य | कुमाऊंनी भाषा में ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन

कुमाऊंनी भाषा में ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन


उत्तराखंडी संस्कृति और कुमाऊंनी भाषा में ग्रामीण परिवेश पर आधारित ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोचन

गणेश कुमावत

 

उत्तराखंडी संस्कृति को उजागर करने के लिए दिल्ली के गढ़वाल भवन में एक कार्यक्रम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम में उत्तराखंडी लेखक पूरन चन्द काण्डपाल के ‘छिलुक’ उपन्यास का विमोजन किया गया। साथ ही इस मौके पर बड़े-बड़े दिग्गजों ने अपनी बात रखी । इन दौरान उत्तराखंड के लेखनों नें उत्तराखंडी भाषा गढ़वाली और कुमाऊंनी को बढ़ावा देने पर जोर दिया। साथ ही पूरन चन्द्र काण्डपाल, हेम पंत के साथ-साथ डी. पी. एम. आई के चेयरमैन विनोद बछेती भी मौजूद रहे। साथ ही इस मौके पर उत्तराखंडी लेखकों ने अपनी-अपनी बात रखी। 

 

इस उपन्याश के जरिये समाज में कुरूतियाँ और कमजोरियों के माध्यम से उत्तराखंडी लोगों में सुधार की कोशिश की गई। वही दूसरी ओर एक सरकारी नौकरी पाकर भी गरीब बन जाता है। क्योंकि इसे नशे की लत लग जाती है और वो पूरी तरह से अपने शरीर को खराब कर लेता है। उन नशेड़ी को समझाने के लिए बहुत प्रयास किया जाता है। लेकिन आखिर में वह नहीं समझता। अपनी जीवन लीला समाप्त कर लेता है।

 

उत्तराखंड का कुमाऊंनी भाषा में इसे लेखक ने ग्रामीण परिवेश का चित्रण किया है। साथ ही अपने बोली भाषा को बचाने की पहल की है।  साथ ही उत्तराखंडी प्रवासियों ने उत्तराखंडी साहित्य को आगे लाने का प्रयास करने पर भी जोर दिया है।

 

उत्तराखंडी भाषाओं में कुमाऊंनी, गढ़वाली और जौनसारी का बड़ा महत्व बताया है। इन भाषाओं के शब्दों से उत्तराखंडी की संस्कृति के साथ देव भाषा भी इन भाषाओं से मिलती झुलती बताते है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: