बुधवार, 19 जून 2019 | 12:41 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | साहित्य | बारिश की भेंट चढ़ा भारत का उर्दू साहित्य, नाले में बही बेश कीमती धरोहर

बारिश की भेंट चढ़ा भारत का उर्दू साहित्य, नाले में बही बेश कीमती धरोहर


भोपाल की अल्लामा इकबाल लाइब्रेरी के बेसमेंट में नाला फटने से लगभग 80 हजार ज्यादा किताबे पानी की भेंट चढ गई। पिछले दिनो भोपाल में बारिश के कारण नालो का गंदा पानी काफी हद तक चढ़ गया जिसकी वजह से लाइब्रेरी के बेसमेंट में नाले के फटने से पानी भर गया सभी किताबो की भारी क्षति उठानी पड़ी बताया तो यह भी जा रहा है कि लगभग 30% से ज्यादा किताबे पानी की भेंट चढ गई अल्लामा इकबाल लाइब्रेरी भारत में मध्यप्रदेश की सबसे पुरानी लाइब्रेरी में से एक बताई जाती है इस ऐतिहासिक लाईब्रेरी में हिंदी उर्दू फारसी व अन्य भाषाओं की भी विरली किताबें थी। यहीं नही उर्दूकी लोकप्रिय और बेहतरीन शायरों की जीवनी व मैगजीन उनमें कुछ दुर्लभ तस्वीरें भी शामिल थी डिजिटलाइजेशन के युग में जहां अभी भी लाइब्रेरी की लोकप्रियता बनी हुई है भले ही तादाद में कम हो लेकिन प्रतियोगी परिक्षाएं व साहित्य प्रेमियों का साहित्य के प्रति लगाव अभी भी लोगो को लाइब्रेरी में जाने को मजबूर करता है अगस्त में यहां हुई बारिश ने इन्ही चाहने वालो की चाहत पर पानी फेर दिया थोडी ही देर सोशल मीडिया पर नाले में तैर रही किताबों की तस्वीरें सामने आने लगे जहां एक ओर प्रशासन पर सार्वजनिक लाइब्रेरी की अनदेखी के आरोप लगे वहीं साहित्य प्रेमी उव किताबो के खोने का अफसोस जताते रह गये जो अब कभी लौटकर नही आ पायेगी सारे जहां से अच्छा लिखने वाले मशहूर शायर अल्लामा इकबाल के ना से बनी यह लाइब्रेरी 1939 में शुरू हुई थी नाले से हुई भारी क्षति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कुछ प्रसिद्ध उर्दू शायरो का संग्रह जोकि अक्सर नजर अंदाज किया जाता था वो किताबें इस लाइब्रेरी का हिस्सा थी इस घटना को काफी घंटे बीत चुके है इस नुकसान की भरपाई तो नही की जा सकती लेकिन अभी भी प्रशासन मुस्तैदी दिखाए तो किताबो को दूसरी जगह पहुंचाकर बाकी बची किताबो को इस अंजाम तक पहुंचाने से बचाया जा सकता है।  



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: