बुधवार, 24 अक्टूबर 2018 | 04:59 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | मनोरंजन | यहां पद्मावती को नहीं रोक सका विरोध प्रदर्शन, 1 दिसंबर हुई रिलीज

यहां पद्मावती को नहीं रोक सका विरोध प्रदर्शन, 1 दिसंबर हुई रिलीज


पद्मावती को लेकर संजयलीला भंसाली समेत फिल्म कास्ट भी तमाम राज्यों में विरोध पदर्शन का सामना कर रही है। बीते दिनों पद्मावती की रिलीज़ पर रोक लगाने की मांग पर अड़ी करणी सेना ने खून से ख़त लिखने और ईनाम जैसे कई पैंतरे आज़माए, लेकिन इसका असर लोगों पर नहीं पड़ा।

 

जी हां, तमाम राज्यों में विरोध प्रदर्शन का सामना कर रही पद्मावती आखिरकार एक दिसंबर को रिलीज़ हुई, जिसने मामले को और तूल देने का काम किया। दरअसल, हल्द्वानी के 12 लोगों की टीम ने नैनीताल की पद्मावती नाम से 20 मिनट की एक शार्ट फिल्म बनाई है, जो एक दिसंबर को लोकल केबल चैनल बॉलीवुड मूवीज और यूट्यूब पर रिलीज होते ही विवादों में घिर गई।


देशभर में जारी बवाल के बीच अब डॉयरेक्टर को कई धमकी भरे फोनकॉल्स आ रहे हैं, जिसमें उनकी फिल्म को लेकर सख्त विरोध जताया जा रहा है। आपको बता दें कि प्रेम त्रिकोण फिल्म की कहानी एक हजार साल पुराने नैनीताल की कल्पना है, जिसमें नैनीताल राजा रतन सिंह और उनकी खूबसूरत पत्नी पद्मावती के प्रेम को हल्द्वानी के राजा केशुबिहारी का दिल पद्मावती आने से ग्रहण लग जाता है। 

 

फिल्म के मुख्य कलाकारों में रोहित राठौर, निशा गुज्जर, मो. सलीम, राजपाल और दिलीप वार्ष्णेय हैं, जबकि फिल्म निर्माण जेपी फिल्म्स के बैनर तले हुआ है, जिसकी ज्यादातर शूटिंग हल्द्वानी में हुई है और गौलापार के भी दृश्य फिल्म में दिखाए गए हैं। फिल्म की खास बात है कि मात्र दस हजार रुपये के बजट में बनकर तैयार हुई इस फिल्म में कलाकारों की मुख्य भूमिका में निशा गुज्जर, दिलीप वार्ष्णेय, राजपाल, मो. सलीम, सिनेमाटोग्राफी नफीस अहमद ने की है। 


भले ही नैनीताल की खूबसूरत वादियों में ‘नैनीताल की पद्मावती’ की शूटिंग हो गई, लेकिन रिलीज होने से पहले ही फिल्म विवादों में घिरती दिख रही है। जहां, निर्देशक को एक के बाद लगातार धमकी भरे फोनकॉल्स किए जा रहे हैं, तो वहीं, फिल्म अभिनेता और निर्देशक रोहित राठौर ने फिल्म में कोई आपत्तिजनक सीन्स नहीं होने का दावा किया है।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: