बृहस्पतिवार, 20 सितंबर 2018 | 08:55 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | उत्तराखंड | भगवान के आदेश पर होता है यहां पर मेले की तिथि का निर्धारण

भगवान के आदेश पर होता है यहां पर मेले की तिथि का निर्धारण


चीन व नेपाल सीमा से सटे गांव अपने धार्मिक उत्सव में विविधताओं के लिए जाने जाते है। वहीं इस क्षेत्र का ऐसा ही एक धार्मिक आयोजन है जगनी मेला। जिसमें सीमावर्ती भारत और नेपाल के गांव वाले बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं। आपको बता दें, 15 वर्षों बाद यह मेला धारचूला तहसील के कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग पर स्यांकुरी गांव में लगा है। इसलिए स्थानीय लोग इसे कुंभ मेला भी कहते हैं। सीमांत तहसील धारचूला के उच्च हिमालय क्षेत्र में स्थित कैलास मानसरोवर मार्ग का वह क्षेत्र जो नेपाल और चीन दोनों का सीमावर्ती इलाका है, इसलिए लोगों में मेले को लेकर काफी उत्सुकता बनी रहती है और वे लोग सालों तक मेले की तारिख घोषित होने का इंतजार करते हैं।

 


आपको बता दें, मानसरोवर यात्रा मार्ग से लगे मेले में स्यांकुरी के गर्ख गर्गुवा, खेला, जम्कू, रफली, खेत, रांथी, जुम्मा सहित काली नदी पार मित्र राष्ट्र नेपाल के हुती, बसेड़ी, चुकपानी सहित अन्य गांवों के ग्रामीण इस मेले में भाग लेते हैं। वहीं इस वर्ष फरवरी महीने के अंत में जगनी मेले का आयोजन स्यांकुरी गांव में किया गया। मेले में गांवों के ग्रामीणों ने अपने परंपरागत वाद्य यंत्रों के साथ स्तुति गाते हुए मंदिरों में दर्शन किया। क्षेत्र के रांथी हुक्क्षर देवता, जुम्मा के नौला देवता, खेला के बरम देवता, गर्गुवा के पटौजा और जुम्मा के हुक्क्षर देवता के मंदिरों में इस मेले का आयोजन किया जाता है। मेले के दौरान सामूहिक भोज होता है इसके बाद सभी ग्रामीण लौटते हैं। 

 


वहीं इस मेले की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इस मेले के आयोजन की कोई निश्चित तिथि तय नहीं होती है। देवदाताओं के प्रतिनिधि कहे जाने वाले देवडांगर कथित रूप से ईश्वर के आदेश के अनुरूप मेला लगाने या न लगाने का निर्णय सुनाते हैं। पिछली बार 2003 में लगे मेले के दौरान ही देवडांगरों ने 2018 की फरवरी माह के अंतिम तिथि को मेला लगाने की घोषणा की थी। इसी घोषणा के क्रम में यह मेला लगाया गया। इस बार अभी तक देवडांगरों को कथित तौर पर देवता ने अगले मेले की कोई तिथि तय करने की इजाजत नहीं दी है। 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: