बुधवार, 26 जून 2019 | 03:56 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादे पूरे करने के लिए बनाई समिति, 15 दिनों के भीतर सौंपनी होगी रिपोर्ट          चमकी बुखार मामले पर SC सख्त, केंद्र, बिहार व यूपी सरकार को नोटिस भेजकर सात दिन में मांगा जवाब          विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ली बीजेपी की सदस्यता, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा रहे मौजूद          मायावती का बड़ा ऐलान, BSP भविष्य में छोटे-बड़े सभी चुनाव अकेले लड़ेगी          कांग्रेस ने राज्यसभा में उठाया बढ़ती आबादी का मुद्दा, कहा- नियंत्रण नहीं हुआ तो विकास बेमानी          अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ा,अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो सऊदी अरब के दौरे पर,मौजूदा हालात पर करेंगे चर्चा          रिजर्व बैंक के डिप्‍टी गवर्नर विरल आचार्य ने दिया इस्‍तीफा, 6 महीने बाद समाप्त होना था कार्यकाल          भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | क्राइम | बाल सुधार गृह में हुई गैंगवार में 10 से अधिक कैदी बच्चे घायल

बाल सुधार गृह में हुई गैंगवार में 10 से अधिक कैदी बच्चे घायल


वर्चस्व की लड़ाई को लेकर जेल से अक्सर कैदियों के बीच गैंगवार की खबरें आती रहती हैं ऐसा ही एक मामला रायपुर के बाल सुधार गृह में देखने को मिला, जब कुछ पुराने कैदियों और नए लड़कों के बीच अचानक से शुरू हुआ विवाद खूनी संघर्ष में बदल गया। बता दें, कि इस गैंगवार में करीब 10 कैदी लड़के घायल हुए हैं। लेकिन अभी तक इस मामले में कोई एफआईआर नहीं दर्ज की गई है। 

 


आपको बता दें, कि इस बाल सुधार गृह में लगभग 75 बच्चे रखे गए हैं. ये सभी गंभीर अपराधों में लिप्त रहे हैं. आठ बच्चे तो हत्या के अपराध में सजा काट रहे हैं। सुधार गृह में अक्सर नए और पुराने कैदियों के बीच तकरार होती रहती थी लेकिन इसे लेकर गृह अधीक्षक ने कोई कार्यवाही नहीं की, जिसके बाद अब अधीक्षक पर भी लापरवाही बरतने के आरोप लग रहे हैं। रायपुर से 15 किलोमीटर दूर स्थित इस बाल सुधार गृह में नए और पुराने कैदियों का अपना-अपना गुट बना रखा है प्रत्येक गुट में 20 से 25 बच्चे हैं। और अक्सर बच्चे बाल सुधार गृह से बाहर भागने की ताक में लगे रहते हैं और कई बार कई बच्चे फरार भी हो चुके हैं 2015 में ही गार्ड को मारकर 8 बच्चे जेल से भाग गए थे, जिन्हें बाद में गिरफ्तार कर लिया गया था। वहीं 2016 में भी 14 बच्चे फरार हुए थे जिसके बाद सुरक्षा की दृष्टि से सुधार गृह के अंदर और बाहर सीसीटीवी कैमरें लगवाए गए हैं।

 


बता दें कि प्रशासन ने ही नए और पुराने कैदी बच्चों के बीच रणनीतिक तौर पर खाई खीचीं हुई है ताकि दोनों गुटों की सूचनाएँ मिलती रहें। ऐसे में जब भी किसी संदिग्ध गतिविधियों की सूचना वहां मौजूद कर्मियों को देते रहे। ऐसे में सूटना लीक हो जाने के चलते दोनों गुटों के लड़के आपस में भिड़ जाते हैं। फिलहाल सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गैंगवार में लिप्त बच्चों की पहचान की जा रही है और वहीं घायल कैदी बच्चों का बाल सुधार गृह के अंदर ही मौजूद अस्पताल में इलाज करवाया जा रहा है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: