बुधवार, 19 जून 2019 | 12:43 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | धर्म-अध्यात्म | भगवान केदारनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली बम केदारनाथ धाम के लिए हो गई है रवाना

भगवान केदारनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली बम केदारनाथ धाम के लिए हो गई है रवाना


उत्तराखण्ड में स्थित भगवान केदारनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली बम भोले के जयकारों के साथ केदारनाथ धाम के लिए रवाना हो गई है।साथ ही हम आपको यह भी बतादे की परंपरानुसार ऊखीमठ स्थित ओंकारेश्वर मंदिर के गर्भगृह से चल विग्रह मूर्ति को बाहर लाया गया। यहां डोली को फूल मालाओं से सजाया गया। केदारनाथ रावल श्री भीमाशंकर लिंग ने मुख्य पुजारी वागेश लिंग को केदारनाथ गद्दी स्थल में पूजा को निर्विघ्नता पूर्वक करने का संकल्प करवाया। केदारनाथ रावल श्री भीमाशंकर लिंग ने मुख्य पुजारी वागेश लिंग को केदारनाथ गद्दी स्थल में पूजा को निर्विघ्नता पूर्वक करने का संकल्प करवाया।

साथ ही हम आपको यह भी बतादे की मन्दिर की एक परिक्रमा के पश्चात डोली ने सुबह 9:15 अपने पहले पड़ाव के लिए प्रस्थान किया। वहीं सुबह छह बजे से ही ओंकारेश्वर मन्दिर में भक्तों की भीड़ लगनी शुरू हो गयी थी। डोली प्रस्थान के समय तेज बारिश होने के बावजूद भी भोले के भक्त जयकारों के कुमाऊं रेजिमेंट के बैंड और पहाड़ के परंपरिक वाद्ययंत्र ढोल की थाप पर नाचते रहे। डोली के दर्शनों के लिए देश विदेश से सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे।

 

 बतादे की तीन मई को धाम के कपाट खुलेंगे। केदारनाथ धाम अगले छह माह तक भगवान केदारनाथ की पूजा-अर्चना होगी। शीतकाल में भगवान केदारनाथ की उत्सव मूर्ति ऊखीमठ में रहती है।

 

 

 

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: