बुधवार, 19 जून 2019 | 12:37 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | साहित्य | साहित्य है समाज की सबसे बडी जरूरत

साहित्य है समाज की सबसे बडी जरूरत


इंटरनेट के इस युग में आज भी 35 प्रतिशत आबादी साहित्य लिखने पढ़ने की शौकीन है इंटरनेट ने जहॉ एक वैचारिक क्रांति ला दी है वही बहुत सी गतिविधियो को आलस से भर दिया है एक ओर जहॉ लेखन की प्रतिभा को बढ़ावा मिला है किताबो का प्रचलन दिन प्रतिदिन घटता जा रहा है चाहे वो बाल साहित्य हो या कुछ ओर देखा जाए तो बाल साहित्य पढ़ने में जितना आसान लगता है उसको लिखना उतनी ही टेढी खीर है इंटरनेट के माध्यम से जो साहित्य समाज में परोसा जा रहा है उसमें से अधिकांश निरर्थक है युवा साहित्यकार राजकुमार जैन ने कहा कि साइबर की बढ़ती पैठ से भाषा के संस्कार और हमारी परंपरा दोनों ही दूषित होती जा रही है हिंदी दिवस और मातृ दिवस महज गोष्ठियॉ बनकर रह गई है।इसी क्रम में समय समय पर स्कूलों में चंद कविगोष्ठि आयोजित हो जाती है कवियों को सम्मान दिया जाता है अभी हाल ही में हरियाणा साहित्य अकादमी की ओर से आयोजित शब्द शक्ति की श्रृंखला में दूसरे दिन बाल साहित्य विविध आयाम विषय पर गोष्ठी का आयोजन हुआ रंगारंग कार्यक्रम के साथ बच्चो को साहित्य लिखने और पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया गया मुख्य अतिथि डॉ दिविक रमेश ने कहा कि आज के बच्चो को ध्यान में रखकर हिंदी में उत्कृष्ट बाल साहित्य का सृजन हो रहा है जिसकी पहुँच बड़ों व बच्चो सभी तक होनी चाहिए यह हर आयु के व्यक्ति के लिए होता है यह भ्रम टूटना चाहिए कि बाल साहित्य केवल बच्चो के लिए होता है सिर्फ समझ ही नही बढाता उन्हे सुसंस्कृत भी करता है इसके साथ ही मुख्य अतिथि ने बताया कि रचनात्मक साहित्य कलात्मक अनुभूति होती है विषय आधारित नही इसके लिए विश्वसनीयता और वैज्ञानिक दृष्टि बहुत मायने रखती है बालको में सोचने की नई कल्पना और नए ढ़ग की समझ पैदा करने के लिए सलाहकार समितिक का गठन किया जाना चाहिए  जिससे साहित्य का प्रचार प्रसार सही ढ़ग से किया जा सके।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: