शनिवार, 18 नवंबर 2017 | 11:52 IST
दूसरों की बुराई देखना और सुनना ही बुरा बनने की शुरुआत है।
होम | सेहत | जानिए, व्रत में प्याज-लहसुन से परहेज़ की असली वजह

जानिए, व्रत में प्याज-लहसुन से परहेज़ की असली वजह


नवरात्रि में कुछ लोग धार्मिक मान्यताओं के नाम पर प्याज और लहुसन से परहेज़ करते हैं, तो कुछ का मानना है कि प्याज-लहसुन तामसिक भोजन की श्रेणी में आते हैं। वहीं, नवरात्रि के दौरान व्रत में खाई जाने वाली की हर चीज में सेंधा नमक का इस्तेमाल होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि व्रत में तामसिक भोजन में शामिल प्याज-लहसुन का परहेज़ और सेंधा नमक ही क्यों इस्तेमाल किया जाता है..? 
 
1. दरअसल, व्रत में प्याज-लहसुन के परहेज़ के पीछे धार्मिक नहीं, बल्कि साइंटिफिक रीज़न है। जी हां, डॉक्टरों की मानें, तो व्रत में तामसिक भोजन यानी प्याज-लहसुन खाने से शरीर की कामुक ऊर्जा जागृत होने लगती है। 
 
2. आमतौर पर घर में इस्तेमाल होने वाले नमक का इस्तेमाल कभी भी व्रत के दिनों में नहीं किया जाता, क्योंकि साधारण नमक पेट में गर्मी पैदा करता है और डाइजेशन सिस्टम पर भी इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।
 
3. खाने में प्याज-लहसुन से परहेज का दूसरा कारण है इच्छाओं पर नियंत्रण खोना। माना जाता है कि व्रत में प्याज-लहसुन खाने से व्यक्ति का अपनी इच्छाओं पर नियंत्रण नहीं रहता, जो व्यक्ति को उपासना के मार्ग से भटका सकता है। वहीं, सी-सॉल्ट यानी सादा नमक समुद्री पानी से बनाया जाता है, जिसे वास्तविक रूप देने के लिए कई तरह के कैमिकल टेस्ट किये जाते हैं। 
 
4. आपको बता दें कि सेंधा नमक यानी पहाड़ी नमक ही ऐसा एकमात्र नमक है, जिसे व्रत में पूर्ण रूप से शुद्ध माना जाता है। सेंधा नमक कम खारा होने के साथ ही आयोडीन मुक्त भी होता है, इसलिए व्रत में हमेशा प्याज-लहसुन से परहेज़ और सेंधा नमक के सेवन की सलाह दी जाती है।  


© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: