शुक्रवार, 25 मई 2018 | 06:34 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | देश | केजरीवाल की डूबती नैया को मिला मोदी के नेताओं का साथ

केजरीवाल की डूबती नैया को मिला मोदी के नेताओं का साथ


जब से आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों को आयोग्य करार गया है, तब से केजरीवाल सरकार के काफी लोगों को विरोध झेलना पड़ रहा है, लेकिन केजरीवाल सरकर को इस मुसीबत के वक्त में थोड़ी सी राहत मिल गई है। जी हां, केजरीवाल को बीजेपी के दो नेताओं का सहारा मिल गया है, जिसके कारण अब बीजेपी  पर  सवाल  उठने शुरू हो गये कि क्या वाकई में मोदी सरकार की ओर से आप की नैया तो नहीं डूबोई गई है? बता दें, कि बीजेपी के बागी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और शत्रुघ्न सिन्हा खुलकर आगे आए हैं, दोनों नेताओ ने राष्ट्रपति के  आदेश को तुगलकी फरमान की संज्ञा दी है।

 

बता दें, कि लाभ के पद मामले में आप के 20 विधायकों पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जिस तरह से फैसला लिया है, वह निश्चित रूप से चौंकाने वाला है, दोनों बीजेपी नताओं ने कहा कि ऐसा लगता है कि देश की संवैधानिक संस्थाऐं केंद्र सरकार की कठपुतली बन गई हैं। साथ ही उन्होंने ऐसी उम्मीदें भीजाहिर की हैं कि आप को जरूर न्याय मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रतिशोध की राजनीति बहुत लंबे समय तक नहीं चलती है। इसलिए संकट के समय में धैर्य से काम लेना चाहिए।

 

यशवंत सिन्हा ने ट्वीट करते हुए कहा कि राष्ट्रपति का आदेश प्राकृतिक न्याय का एक पूरा गर्भपात है, उन्होंने कहा कि इस मामले में हाईकोर्ट के आदेश की प्रतिक्षा करनी चाहिए थी। राष्ट्रपति को अदालत के फैसले का इंतजार करना चाहिए था। इसके साथ ही अब सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने भी केजरीवल का समर्थन किया है। आपको बता दें, कि मोदी राज में बीजेपी या फिर उनके खिलाफ बोलने की हिम्मत पार्टी में किसी के पास नहीं है।  कई बार भाजपा से जुड़े लोग पार्टी की मंशा पर सवाल उठाते भी हैं, लेकिन मोदी सरकार के खिलाफ बोलने का साहस कोई नहीं दिखा पाता। ऐसे में पार्टी के 2 वरिष्ठ नेता इन दिनों लगातार पार्टी के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं। खास बात यह है कि दोनों का सरनेम सिन्हा ही है और दोनों ने बिहार से राजनीति की शुरुआत की थी, दोनों ही अटल बिहारी वाजपेयी के शासनकाल में सीनियर केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं और अब इन दोनों नेताओं का समर्थन केजरीवील के पास है। अब ये देखना काफी दिसचस्प होगा कि बीजेपी अपनी पार्टी के दो बड़े नेताओं पर किस तरह लगाम लगाती है।

 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: