बुधवार, 19 जून 2019 | 12:40 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | उत्तराखंड | केदारनाथ धाम में आम यात्री नहीं कर पाएंगे वीआइपी दर्शन

केदारनाथ धाम में आम यात्री नहीं कर पाएंगे वीआइपी दर्शन


केदारनाथ धाम में 2100 रुपये की पर्ची कटाकर आम श्रद्धालुओं के वीआइपी दर्शनों पर रोक लगा दी गई। पुलिस की ओर से यह कदम आम यात्रियों के वीआइपी दर्शनों को लेकर हुए विरोध के बाद उठाया गया। इसके चलते रविवार को चार घंटे तक किसी भी प्रकार के वीआइपी दर्शन नहीं हो सके, लेकिन आगे से इस रोक का असर सिर्फ आम यात्रियों के वीआइपी दर्शनों पर ही पड़ेगा। प्रोटोकाल के तहत और हेली सेवाओं से आने वाले यात्री इससे प्रभावित नहीं होंगे।

केदारनाथ यात्रा इन दिनों पूरे शबाब पर है। दर्शनों के लिए मध्यरात्रि के बाद दो बजे से यात्रियों की लाइन लग जा रही है। तब जाकर घंटों बाद नंबर आ रहा है। बावजूद इसके रोजाना एक से डेढ़ हजार आम यात्री श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति से 2100 रुपये की पर्ची कटवाकर वीआइपी दर्शनों का लाभ ले रहे हैं। इस व्यवस्था का पिछले कई दिनों से यात्री विरोध कर रहे थे। 

 

 

रविवार को तो विरोध इस कदर बढ़ गया कि पुलिस ने दोपहर एक बजे से पांच बजे तक वीआइपी दर्शन पूरी तरह रोक दिए। पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने बताया कि केदारनाथ में मंदिर समिति की ओर से 2100 रुपये की पर्ची कटवाकर जो वीआइपी दर्शन कराए जाते थे, उन पर आगे से पूरी तरह रोक लगा दी गई है। उन्होंने यह भी बताया कि जिन यात्रियों का सत्यापन पुलिस क्षेत्राधिकारी केदारनाथ करेंगे, उनके लिए वीआइपी दर्शनों पर रोक नहीं है। इन यात्रियों में प्रोटोकाल के तहत और हेली सेवाओं से आने वाले यात्री शामिल हैं।

 

इधर, मंदिर समिति के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि मंदिर समिति की ओर से बुजर्ग, विकलांग और जो यात्री लाइन मे खड़े नहीं हो सकते, सिर्फ उनके लिए ही 2100 रुपये की पर्ची कटवाकर दर्शनों की व्यवस्था की गई थी। इस संबंध में पुलिस प्रशासन के तात्कालिक निर्णय से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

दस जून तक टोकन व्यवस्था भी बंद 

 

केदारनाथ में यात्रियों की भारी आमद को देखते हुए कपाट खुलने के समय से शुरू की गई टोकन व्यवस्था भी बंद हो गई है। यह व्यवस्था यात्रियों की सहूलियत के लिए लागू की गई थी, ताकि यात्रियों को कड़ाके की ठंड में लाइन मे खड़ा न होना पड़े। हालांकि, एसपी का कहना है कि टोकन व्यवस्था यात्रियों की भारी भीड़ को देखते हुए फौरी तौर पर बंद की गई है। दस जून से व्यवस्था दोबारा शुरू कर दी जाएगी।

दूर से ही होंगे ज्योतिर्लिग के दर्शन 

केदारनाथ मंदिर में भक्त अब दूर से ही स्वयंभू शिवलिंग के दर्शन कर पाएंगे। यात्रियों की भारी भीड़ को देखते हुए प्रशासन ने यह निर्णय लिया है। विदित हो कि अभी तक भक्त ज्योतिर्लिग के दर्शनों के साथ ही उसकी परिक्रमा और स्पर्श भी करते थे। लेकिन, नई व्यवस्था में ऐसा संभव नहीं होगा।

साभार



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: