बुधवार, 19 जून 2019 | 12:42 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
अरबपतियों के क्लब से अनिल अंबानी का नाम हटा, 3600 करोड़ रह गई कुल संपत्ति          पीएनबी घोटाले का आरोपी मेहुल चोकसी ने कोर्ट में कहा,मैं भागा नहीं, इलाज के लिए छोड़ा था देश          अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की रत्नागिरी और खेड़ स्थित पैतृक संपत्तियों की होगी नीलामी           चीन के सिचुआन भूकंप से 11 लोगों की मौत 122 लोग घायल           कोटा से बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा अध्यक्ष           17वीं लोकसभा के पहले सत्र में नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ली          आईसीसी विश्व कप 2019 के महामुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से हराया          बिहार में चमकी बुखार से 108 बच्चों की मौत          प्रधानमंत्री मोदी का संदेश-पक्ष-विपक्ष के दायरे से ऊपर उठकर देशहित में काम करने की जरूरत          दिल्ली में सुहाना हुआ मौसम, हल्की फुहारों के साथ गर्मी से मिली राहत          चक्रवाती तूफान वायु का खतरा अभी टला नहीं है। मौसम विभाग के मुताबिक गुजरात में अगले सप्ताह एक बार फिर से चक्रवात वायु दस्तक दे सकता है          गुजरात के वडोदरा में एक होटल के नाले को साफ करने के दौरान दम घुटने से चार सफाईकर्मियों सहित सात लोगों की मौत          केजरीवाल सरकार के महिलाओं को मेट्रो में फ्री यात्रा देने के फैसले पर श्रीधरन ने एतराज जताया          दिल्ली के कई सरकारी अस्पतालों के डॉक्टर ने कोलकाता के अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए किया विरोध प्रदर्शन           दलालों पर रेलवे का ऑपरेशन थंडर: 387 गिरफ्तार, 50 हजार लोगों के टिकट रद्द         
होम | क्राइम | इशरत जहां फर्जी एनकाउंटर’ में क्या है मोदी ‘कनेक्शन’?

इशरत जहां फर्जी एनकाउंटर’ में क्या है मोदी ‘कनेक्शन’?


इशरत जहां फर्जी एंनकाऊटर के आरोपी डीजी वंजारा ने एक खुलासा कर दिया है जिसके बाद  देश की राजनीति में बवाब मच गया है आपको बते दें  फर्जी मुठभेड़ मामले के आरोपी डीजी वंजारा ने एक सनसनीखेज दावा करते हुए कहा है कि जांच अधिकारी आईओ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुप्त रूप से पूछताछ की थी। उस वक्त मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। वंजारा ने सीबीआई स्पेशल कोर्ट में बताया कि उस वक्त के सीएम और मौजूदा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को भी जांच अधिकारी ने पूछताछ के लिए बुलाया था, हालांकि यह बात रिकॉर्ड में दर्ज नहीं है। वंजारा ने ये भी बताया कि जांच टीम का उद्देश्य था कि मोदी को आरोपी बनाया जाए और इसीलिए चार्जशीट की पूरी कहानी बनायी गई। इस जांच टीम में आईपीएस अधिकारी सतीश शर्मा भी शामिल थे।  वंजारा ने कोर्ट को बताया कि इस मामले में रिकॉर्ड में जो भी बातें हैं, वो झूठी और गढ़ी गई हैं। वर्तमान आवेदक के खिलाफ अभियोजन पक्ष के पास कोई सबूत नहीं है। आपको बते दें  मुंबई की 19 साल की इशरत जहां, जावेद शेख उर्फ प्राणेश पिल्लई, अमजद अली अकबरअली राणा और जीशान जौहर 15 जून 2004 को अहमदाबाद के बाहरी इलाके में एक कथित मुठभेड़ में मारे गए थे... गुजरात पुलिस ने उस वक्त दावा किया था कि इशरत और उसके तीनों साथी तत्कालीन गुजरात के मुख्यमंत्री और वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने के लिए अहमदाबाद गए थे। हालांकि इस मुठभेड़ को गुजरात हाईकोर्ट के आदेश पर बनाई गई एसआईटी ने फर्जी करार दिया। साथ ही इस मुठभेड़ की जांच के भी आदेश दिए थे। इशरत जहां एनकाउंटर को लेकर खूब बवाल मचा था। उस वक्त यह बवाल इतना बढ़ गया था कि गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री मोदी से इस्तीफे तक की मांग की गई थी। इस कथित फर्जी मुठभेड़ मामले में सिर्फ डीजी वंजारा ही नहीं बल्कि कई और पुलिसवाले फंसे थे

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: