मंगलवार, 24 अप्रैल 2018 | 02:21 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | उत्तराखंड | उत्तराखंड में निकाय चुनाव का बढ़ता जोर

उत्तराखंड में निकाय चुनाव का बढ़ता जोर


देश में उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र के बाद अब उत्तराखंड की बारी आ चुकी है। जानकारी के मताबिक, उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के बाद मौजूदा भाजपा सरकार की अग्निपरीक्षा की घड़ियां निकट आ गई हैं। राज्य के 92 नगर निकायों के चुनाव के लिए सरकार और राज्य निर्वाचन आयोग की कवायद अंतिम दौर में पहुंच गई है। मिल रहे संकेतों के मुताबिक राज्य में अप्रैल मध्य में निकाय चुनाव संपन्न करा लिए जाएंगे।

जानकारी के मुताबिक, उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव में ऐतिहासिक प्रदर्शन के बाद अब भाजपा के समक्ष इसे आगामी निकाय चुनाव में भी दोहराने की बड़ी चुनौती है। राज्य के 92 नगर निकायों में एक साथ चुनाव होने हैं। इनमें आठ नगर निगम, 35 नगर पालिका परिषद और 49 नगर पंचायत शामिल हैं। सूत्रों के मुताबिक राज्य निर्वाचन आयोग ने नगर निकाय चुनाव के लिए प्रारंभिक कार्यक्रम तय कर सरकार को सौंप दिया है। इसमें थोड़ा-बहुत बदलाव संभव है क्योंकि चुनाव को लेकर अंतिम निर्णय सरकार को लेना है। सूत्रों ने बताया कि राज्य निर्वाचन आयोग मार्च मध्य, यानी 15-16 मार्च तक निकाय चुनाव की अधिसूचना जारी करने की तैयारी में है। 

इस लिहाज से अप्रैल के दूसरे या तीसरे सप्ताह में राज्य में निकाय चुनाव के लिए मतदान होने की संभावना है। इस बार निकाय चुनाव ईवीएम के जरिये नए परिसीमन के अनुसार होने हैं, लिहाजा मतगणना में लगने वाले वक्त की काफी बचत हो जाएगी। जानकारी के मुताबिक सूत्रों का कहना है कि प्रारंभिक कार्यक्रम के मुताबिक जनवरी आखिर तक सभी निकायों में वार्डों का परिसीमन तय करने साथ ही 15 फरवरी तक आरक्षण भी निर्धारित कर दिया जाएगा। अप्रैल के अंतिम सप्ताह तक सभी निकायों के बोर्ड अस्तित्व में आ जाएंगे। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: