बुधवार, 26 जून 2019 | 03:54 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादे पूरे करने के लिए बनाई समिति, 15 दिनों के भीतर सौंपनी होगी रिपोर्ट          चमकी बुखार मामले पर SC सख्त, केंद्र, बिहार व यूपी सरकार को नोटिस भेजकर सात दिन में मांगा जवाब          विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ली बीजेपी की सदस्यता, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा रहे मौजूद          मायावती का बड़ा ऐलान, BSP भविष्य में छोटे-बड़े सभी चुनाव अकेले लड़ेगी          कांग्रेस ने राज्यसभा में उठाया बढ़ती आबादी का मुद्दा, कहा- नियंत्रण नहीं हुआ तो विकास बेमानी          अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ा,अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो सऊदी अरब के दौरे पर,मौजूदा हालात पर करेंगे चर्चा          रिजर्व बैंक के डिप्‍टी गवर्नर विरल आचार्य ने दिया इस्‍तीफा, 6 महीने बाद समाप्त होना था कार्यकाल          भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | धर्म-अध्यात्म | अपना धर्म(मानवता) क्या होना चाहिए...

अपना धर्म(मानवता) क्या होना चाहिए...


मानवता की कदर करना ही हमारा धर्म होता है लेकिन ऐसा करने में लोग हिचकिचाते हैं। इसलिए ही मानवता अपने रास्ते से भटकती हुई नजर आती है। आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि इस मानवता को कैसे निभाया जाए...जी इसको निभाने में कोई ज्यादा महनत की बात नही सिर्फ समझने की जरुरत है। वो इस प्रकार एक दूसरे का सम्मान करना बडो की आज्ञा का पालन करना और अपने धर्म, कर्म के साथ चलना जीवन में किसी की निंदा या बुराई मत करो और यदि आप किसी की सहायता कर सकते हो तो करे यदि नही कर सकते हो तो किसी को दुख भी ना पहुचाएं। जिससे किसी की आंत्माओं को ठेस पहुचें। जीवन एक साईकिल है जिसको चलाने के लिए बैलेंस बनाना होगा और आगे ही बढते रहना होगा जिससे आप सवारी सही कर सकें। अंत में एक और ऐसा रास्ता है जिससे आप बच भी सकते है और नही भी लेकिन अपने जीवन को सही और सहज रखना चाहते हो तो सात बातों को ध्यान में रखना जरुरी होगा। बिना महनत के धन,बिना विवेक के सुख, बिना सिद्धांतों के राजनीति, बिना चरित्र के ज्ञान, बिना नैतिकता के व्यापार, बिना मानवता के विज्ञान, और बिना त्याग के पूजा। इन सब बातों का ज्ञान होना और अमल करना हमारी मानवता है...... 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: