सोमवार, 10 दिसम्बर 2018 | 04:45 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
होम | उत्तराखंड | केदारनाथ से हरीश रावत खेलेगें नया दांव

केदारनाथ से हरीश रावत खेलेगें नया दांव


एक ओर जहां मंदिर-मंदिर घूमकर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भगवान के दर्शन कर रहे है, तो वहीं अब हरीश रावत देवों के देव महादेव के धाम केदारनाथ जाएंगे। खास बात ये है कि वह केदारनाथ दर्शन के लिए पैदल ही जाएगें। सॉफ्ट हिंदुत्व को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की राह अपना चुके रावत अपने इस कदम के जरिये सरकार पर हार्ड हिटिंग की तैयारी में हैं तो हाईकमान के लिए भी तकरीबन साफ संदेश है कि आम चुनाव में उन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकेगा। 

 


आपको बता दें, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केदारनाथ में नई केदारपुरी के निर्माण कार्यों का शिलान्यास कर चुके हैं, ऐसे में केदारनाथ जाने और वहां बीते एक साल में राज्य सरकार की ओर से कराए गए कार्यों का जायजा लेने की बात उछालकर रावत एक तीर से कई निशाने लगाना चाहते हैं। मोदी लहर ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की सियासी अरमानों पर भले ही पानी फेर दिया हो, लेकिन संघर्षों के बल पर आगे बढऩे के मामले में अलग पहचान कायम कर चुके रावत अब पार्टी के भीतर और बाहर यह जताने में शिद्दत से जुटे हैं कि वह आसानी से मैदान छोड़ने वाले नहीं हैं।

 


सूबे की सियासत पर अपनी पकड़ बनाए रखने और उसे साबित करने की जद्दोजहद में रावत उम्र को हावी होने देना तो दूर, अपनी सक्रियता से विरोधियों के साथ ही समर्थकों को भी चौंकाने से गुरेज नहीं कर रहे हैं।  उनके अपने फेसबुक पेज में केदारनाथ धाम पैदल जाने का ऐलान करने के पीछे उनका यही मकसद बताया जा रहा है। अपने मुख्यमंत्रित्व काल में भी केदारनाथ धाम की पैदल यात्रा के जरिये वह पार्टी में अपने विरोधियों को संदेश दे चुके हैं।  

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: