शनिवार, 18 नवंबर 2017 | 11:54 IST
दूसरों की बुराई देखना और सुनना ही बुरा बनने की शुरुआत है।
होम | उत्तराखंड | शिक्षा मंत्री के फैसले से विद्याथियों को बड़ी राहत

शिक्षा मंत्री के फैसले से विद्याथियों को बड़ी राहत


उत्तराखंड में शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी किये हैं, जिससे उत्तराखंड के स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को बड़ी राहत मिली है। जी हां, हालिया जारी निर्देशों के मुताबिक, सूबे आठ साल तक एनसीईआरटी पाठ्यक्रम की पुस्तकें नहीं बदली जाएंगी। आधिकारिओं को दिशा-निर्देश जारी करते हुए विद्यालयी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने बताया कि स्कूलों में हर साल पाठ्यक्रम पुस्तकें बदलने की झंझट से अभिभावकों को निजात देने के लिए सरकार ने प्रदेश में एनसीईआरटी का पाठ्यक्रम की पुस्तकें आठ साल तक नहीं बदलने का फैसला किया है, जिससे छात्रों को पुरानी किताबों का लाभ भी मिल सकेगा। मंगलवार को सचिवालय में विद्यालयी शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने बताया कि जनवरी, 2018 के अंत तक पुस्तकें छप कर विक्रय के लिए उपलब्ध हो जाएंगी, जिसकी सभी कवायद पूरी हो चुकी हैं। 

 

 

बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के निर्देशप्राप्त होते ही पुस्तकों के मुद्रण के लिए टेंडर फाइनल किया जाएगा और एनसीईआरटी पाठ्यक्रम की पुस्तकें उच्च गुणवत्ता के कागज पर छपेंगी। ऐसा करने से बुक बैंक सुरक्षित रहेगा, जिसका पूरा लाभ छात्रों को मिल सकेगा। विद्यालयी शिक्षा मंत्री ने बताया कि शिक्षा विभाग में बैकलॉग भर्तियां शीघ्र होंगी, जिसके संबंध में अधिकारियों को दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। खबरों की मानें, तो सारी प्रक्रिया पूरी होने के बाद पात्रों का चयन किया जाएगा और सीबीएसई आफिस के लिए भूमि तलाशी जाएगी। सर्व शिक्षा अभियान में गड़बड़ियों के सवाल पर उन्होंने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो एसआईटी से अभियान की भी जांच कराई जाएगी। 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: