शुक्रवार, 15 दिसम्बर 2017 | 08:12 IST
दूसरों की बुराई देखना और सुनना ही बुरा बनने की शुरुआत है।
दूसरे चरण में करीब 68-70 प्रतिशत मतदान रहा।           दूसरे चरण में 93 सीटों के चुनावों के लिए वोट डाले गये।          गुजरात के दूसरे चरण के चुनावों का इंतजार खत्म हुआ।          मुंबई महानगरपालिका के वार्ड नंबर 21 में उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की।          गुजरात विधानसभा चुनाव में लालकृष्ण आडवाणी ने गांधीनगर में वोट डाला।          पीएम मोदी ने देश को किया समर्पित: पनडुब्बी आईएनएस कलवरी           स्कॉर्पियन सीरीज की पहली पनडुब्बी आईएनएस कलवरी आज भारतीय नौसेना में शामिल।          गुजरात के साबरमती में वोटिंग के लिए पहुंचे पीएम मोदी।          18 दिसंबर को होगा फैसला: भाजपा या कांग्रेस          विराट कोहली और अनुष्का का दिल्ली में 21 दिसंबर और मुंबई में 26 दिसंबर को इंतजार।          अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी निर्विरोध चुने गए।          कांग्रेस अध्यक्ष पद के दिए 16 दिसंबर का इंतजार ।         
होम | दुनिया | डोकलाम विवाद में चीन की चेतावनी, हमारे हथियार खिलौने नहीं

डोकलाम विवाद में चीन की चेतावनी, हमारे हथियार खिलौने नहीं


भारत और चीन के बीच डोकलाम को लेकर तनाव जारी है। इसके दैरान चीन ने चेतावनी दी है कि हमारे बड़े हथियार सिर्फ खिलौने नहीं हैं। साथ ही कहा कि उसकी नौसेना हिंद महासागर की सुरक्षा बरकरार रखने के लिए भारतीय नेवी से हाथ मिलाना चाहती है। बता दें कि सेना में कटौती के चीन के दावे को भारत ने किया खारिज कर दिया है। शुक्रवार को चीनी नौसेना ने भारतीय मीडिया को अपना युद्धपोत यूलिन दिखाया। और वहां मौजूद हथियारों की जानकारी दी है। चीन ने तटीय शहर झानजियांग में अपने सामरिक दक्षिण सागर बेड़े (एसएसएफ) के अड्डे को पहली बार भारतीय पत्रकारों के एक समूह के लिए खोला है। इसके साथ ही पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के अधिकारियों के मुताबिक है कि हिंद महासागर अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए सहा जगह है। दरअसल दोनों देशों के बीच डोकलाम में करीब दो महीने से तनाव चल रहा है। और दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने खड़ी है। चीन ने बयान जारीकर कहा है कि बिना शर्त सेना हटाए भारत चीन के एसएसएफ के जनरल ऑफिस के उप प्रमुख कैप्टन लियांग तियानजुन के मुताबिक है कि चीन और भारत हिंद महासागर की संरक्षा एवं सुरक्षा के लिए संयुक्त तौर पर योगदान कर सकते हैं। उन्होंने यह टिप्पणी ऐसे समय में की जब चीन की नौसेना अपनी वैश्विक पहुंच बढ़ाने के लिए बड़े पैमाने पर विस्तार वादी रवैया अपना रही है।  

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: