बुधवार, 26 जून 2019 | 03:54 IST
समर्थन और विरोध केवल विचारों का होना चाहिये किसी व्यक्ति का नहीं!!
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वादे पूरे करने के लिए बनाई समिति, 15 दिनों के भीतर सौंपनी होगी रिपोर्ट          चमकी बुखार मामले पर SC सख्त, केंद्र, बिहार व यूपी सरकार को नोटिस भेजकर सात दिन में मांगा जवाब          विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ली बीजेपी की सदस्यता, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा रहे मौजूद          मायावती का बड़ा ऐलान, BSP भविष्य में छोटे-बड़े सभी चुनाव अकेले लड़ेगी          कांग्रेस ने राज्यसभा में उठाया बढ़ती आबादी का मुद्दा, कहा- नियंत्रण नहीं हुआ तो विकास बेमानी          अमेरिका और ईरान के बीच तनाव बढ़ा,अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो सऊदी अरब के दौरे पर,मौजूदा हालात पर करेंगे चर्चा          रिजर्व बैंक के डिप्‍टी गवर्नर विरल आचार्य ने दिया इस्‍तीफा, 6 महीने बाद समाप्त होना था कार्यकाल          भ्रष्ट अफसरों को जबरन वीआरएस दिया जाए, ऐसे लोग नहीं चाहिए-योगी आदित्यनाथ         
होम | रोजगार | IDFC Bank और Capital First के विलय को मंजूरी

IDFC Bank और Capital First के विलय को मंजूरी


प्राइवेट सेक्टर की बैकिंग इकाई आईडीएफसी बैंक और गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी कैपिटल फर्स्ट ने आज कहा कि उन्हें विलय के लिए अपने-अपने निदेशक मंडल की मंजूरी मिल चुकी है। आपको बता दें, कि इस सौदे के तहत कैपिटल फर्स्ट के प्रत्येक 10 शेयर के लिए आईडीएफसी बैंक 139 शेयर जारी करेगा।

 


आपको बता दें, कि बैंक के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजीव लाल ने बयान जारी कर कहा है कि हमें यकीन है कि यह विलय आईडीएफसी बैंक के लिए अभूतपूर्व होगा। इससे तकनीकी और सांस्कृतिक जुड़ाव वाले दो संगठन विविधता से भरा एक वैश्विक बैंक बनाने के लिए एक साथ आएंगे और इससे संबंधित सभी पक्षों का मूल्यवर्धन होगा। कैपिटल फर्स्ट के मौजूदा चेयरमैन एवं एमडी वी. वैद्यनाथ विलय के बाद संयुक्त निकाय के एमडी व सीईओ होंगे। वहीं राजीव लाल संयुक्त निकाय के गैर-कार्यकारी अध्यक्ष का पद संभालेंगे। वह वीणा मानकर को स्थानांतरित करेंगे। इसके बाद भी वीणा मानकर निदेशक मंडल की सदस्य बनी रहेंगी। 

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: