शनिवार, 16 दिसम्बर 2017 | 06:32 IST
दूसरों की बुराई देखना और सुनना ही बुरा बनने की शुरुआत है।
विजय दिवस के मौके पर शहीदों को दी श्रद्धांजली।           अध्यक्ष बनते ही बीजेपी पार्टी पर तगड़े तंज: राहुल गांधी           राहुल गांधी बने कांग्रेस पार्टी के नये अध्यक्ष।          कोयला घोटाले में मधु कोड़ा को 3 साल की सजा, 25 लाख का जुर्माना           तीन तलाक दिया तो 3 साल की सजा होगी ।          केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ट्रिपल तलाक बिल को दी मंजूरी          राहुल गांधी की ताजपोशी 16 दिसंबर को होगी।          कांग्रेस पार्टी के नये अध्यक्ष बनने जा रहे है राहुल गांधी          हिमाचल प्रदेश व गुजरात विधानसभा चुनावों के फैसले 18 दिसंबर को होंगे जारी।          राज्यसभा में विपक्षी दलों का हंगामा।          लोकसभा 18 दिसंबर तक के लिए स्थगित ।          18 दिसंबर को होगा फैसला: भाजपा या कांग्रेस         
होम | उत्तराखंड | केदारनाथ में सरस्वती नदी का घाट पर देखने को मिलेगा नया रूप

केदारनाथ में सरस्वती नदी का घाट पर देखने को मिलेगा नया रूप


उत्तराखंड की भूमि को जितना सजाया जाये, उतना ही कम है। क्योंकि कूदरत ने पहले ही उसे सुन्दर पहाड़ों और हरियाली से सजा रखा है। कही मंदिर तो कही नदी और झरनों की सुन्दरता देखने को मिलती है। आज के युग में सुख-सुविधा के लिए कुछ नये निर्माण हो रहे है। जानकारी के मुताबिक केदारपुरी में सरस्वती नदी पर घाट का निर्माण कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है। कार्यदायी संस्था निम (नेहरू पर्वतारोहण संस्थान) के मजदूर कड़ाके की ठंड में भी दिन-रात कार्य में जुटे हैं। इससे पूर्व, निम मंदाकिनी नदी पर भी घाट का निर्माण पूरा हो चुका है। 

आपको बता दे कि केदारनाथ आपदा के बाद से निम की टीम केदारपुरी में डटी हुई है। धाम में नई केदारपुरी बसाने के लिए वर्ष 2014 से लगातार पुनर्निर्माण कार्य चल रहे हैं। अब तक निम केदारपुरी में बिखरे मलबे को साफ करने के साथ ही हेलीपैड, वैली ब्रिज, मंदिर तक पैदल मार्ग व तीर्थ पुरोहितों के भवनों का निर्माण हो चुका है। 

साथ ही इन दिनों सरस्वती नदी पर घाट का निर्माण कार्य चल रहा है। लगभग तीन करोड़ की लागत से बनने वाला घाट काफी हद तक आकार भी ले चुका है। घाट के तैयार होने के बाद आगामी यात्रा सीजन में यात्री यहां पर स्नान कर सकेंगे। घाट पर यात्रियों के लिए चेंजिंग रूम का निर्माण भी होना है। निम के मीडिया प्रभारी ने बताया कि मजदूर कड़ाके की ठंड में भी दिन-रात काम में जुटे हुए हैं। तय समय सीमा से पूर्व ही घाट तैयार कर लिया जाएगा।



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: