शुक्रवार, 15 दिसम्बर 2017 | 08:04 IST
दूसरों की बुराई देखना और सुनना ही बुरा बनने की शुरुआत है।
दूसरे चरण में करीब 68-70 प्रतिशत मतदान रहा।           दूसरे चरण में 93 सीटों के चुनावों के लिए वोट डाले गये।          गुजरात के दूसरे चरण के चुनावों का इंतजार खत्म हुआ।          मुंबई महानगरपालिका के वार्ड नंबर 21 में उपचुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की।          गुजरात विधानसभा चुनाव में लालकृष्ण आडवाणी ने गांधीनगर में वोट डाला।          पीएम मोदी ने देश को किया समर्पित: पनडुब्बी आईएनएस कलवरी           स्कॉर्पियन सीरीज की पहली पनडुब्बी आईएनएस कलवरी आज भारतीय नौसेना में शामिल।          गुजरात के साबरमती में वोटिंग के लिए पहुंचे पीएम मोदी।          18 दिसंबर को होगा फैसला: भाजपा या कांग्रेस          विराट कोहली और अनुष्का का दिल्ली में 21 दिसंबर और मुंबई में 26 दिसंबर को इंतजार।          अध्यक्ष पद के लिए राहुल गांधी निर्विरोध चुने गए।          कांग्रेस अध्यक्ष पद के दिए 16 दिसंबर का इंतजार ।         
होम | सेहत | आपकी याददाश्त को कम कर सकता है एक ग्लास वाइन

आपकी याददाश्त को कम कर सकता है एक ग्लास वाइन


रोजमर्रा की जिंदगी में पी जाने वाली बीयर से तो वजन बढ़ता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि डेली वाइन पीने से क्या होता है ? वाइन की गिनती एल्कोहल में होती है, ये बात हम सभी जानते हैं और उसके साइड इफेक्ट भी, लेकिन इन्हें नज़रअंदाज़ कर देते हैं। 
वाइन पर हुई एक रिसर्च सामने आया है कि सिर्फ एक पाइंट वाइन यानि एक गिलास वाइन पीने से स्वास्थ्य पर बूरा असर पड़ता है और मिडिल ऐज के जो लोग रोजाना मजे में एक ग्लास वाइन पी लेते हैं, इसका सीधा असर उनकी याददाश्त पर पड़ता है। ऐसे लोगों की ज्यादातर 70 की उम्र पहुंचने तक मेमोरी पावर कम हो जाती है यानि उनका कमजोर ब्रेन धीरे-धीरे काम करना बंद करने लगता है। यहां तक की, जो अल्टरनेटिव डेज़ में भी ड्रिंक करते हैं उन पर भी वाइन का बुरा असर पड़ता है ऐसे में उनका ब्रेन कमजोर पड़ने का खतरा और बढ़ जाता है। शोधकर्ताओं की मुताबिक एक सप्ताह में 14 से 21 यूनिट वाइन ड्रिंक करना लगभग 175 एमएल बीयर पीने के बराबर है। इस मात्रा में इन दोनों पेय पदार्थों को ड्रिंक करने से दिमाग छोटा हो जाता है और बुढ़ापे में दिमाग की शक्ति कमजोर पड़ जाती है। एल्कोहल का असर पहले बहुत कम लेवल पर शुरू होता है, लेकिन धीरे-धीरे होने वाला इसका असर पागलपन के तौर पर नजर आने लगता है।

 



© 2016 All Rights Reserved.
Follow US On: